कोरोना के बेकाबू रफ्तार के कारण दिल्ली में 30 अप्रैल तक के लिए और सख्त हुए नियम – राजधानी में लगी कई पाबंदियां

    177

    दिल्ली में कोरोना के केस बढ़ते ही केजरीवाल सरकार ने कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। दिल्ली सरकार ने भीड़ जमा होने वाले कोई भी कार्यक्रम पर रोक लगा दी है। सरकार के द्वारा जारी नई गाइडलाइन के मुताबिक सोशल, राजनीतिक या किसी भी प्रकार की धार्मिक गतिविधियों पर रोक लगाई है। वहीं कोरोना के तेली से बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने शादी समारोह में शामिल होने वाले गेस्ट की संख्या कम कर दी है। इसे 100 से घटाकर 50 कर दी गई है। इधर, अंतिम संस्कार में 50 की कई जगह अब 20 लोग शामिल हो सकेंगे। पाबंदियों का असर सबसे ज्यादा दिल्ली की परिवहन पर दिखेगी। हाल में बसों की सभी सीटों पर बैठने की मिली छूट को खत्म करते हुए इसे अब 50 फीसद कर दी गई है।

    बार एवं रेस्तरां में पचास फीसदी क्षमता के साथ चले डीडीएम ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि राजधानी में चल रहे सारे रेस्तरां और बार को अब पचास फीसद क्षमता के साथ चलाया जाए। ताकि संक्रमण से बचने के लिए शारीरिक दूरी का विशेष ख्याल रखा जाए। सरकार की ओर से जारी पाबंदियों में स्वीमिंग पूल को भी तत्काल प्रभाव से बंद करने के आदेश दिए गए हैं।

    शिक्षा के क्षेत्र में भी पाबंदियां

    आदेश मेें यह भी बताया गया है कि कक्षा नौ से लेकर 12 तक के बच्चों को सिर्फ परीक्षा के लिए ही बुलाया जाए। हालांकि इसके लिए भी उन्हें उनके माता-पिता की परमिशन की जरूरत होगी।

    इधर महाराष्ट्र से आने वालों के लिए नियम सख्त हो गए हैं। आरटीपीसआर रिपोर्ट के बिना आने वालों को 14 दिनों की क्वारंटाइन किया जाएगा। वहीं जिनकी रिपोर्ट निगेटिव है उन्हें इससे छूट मिलेगी।