नेटवर्थ के मालिक बिल ह्वांग को शेयर बाजार में एक गलती पड़ी भारी, दो दिन में गवायीं करीब 1.5 लाख कराेड़ रुपये की संपत्ति

308

वॉल स्ट्रीट के ट्रेडर बिल ह्वांग की गिनती दुनिया में इकलाैते एक शख्स के ताैर पर हाे गई शेयर बाजार में रातोंरात कंगाल हाे गए. 2000 कराेड़ डॉलर (करीब 1.5 लाख कराेड़ रुपये ) नेटवर्थ के मालिक ह्वांग ने सिर्फ दाे दिन में पूरी संपत्ति गंवा दी. इससे सिर्फ वे ही नहीं बल्कि उन्हें कर्ज देने वालाें काे भी 50 हजार कराेड़ रुपये का नुकसान हुआ है जिनका पैसा उन्हाेंने शेयर बाजार में लगा रखा था. जानकार बताते है कि ह्वांग ने गलत तरीके से निवेश किया था जिसका उन्हें इतना बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ा. उनकी कंपनी के धराशायी हाेते ही कई बैंकाें और वित्तीय संस्थानाें की हालत भी पतली हाे गई. बैंकाे ने गिरवी रखे ह्वांग के शेयर बेचना शुरू कर दिए . जिससे शेयराें में गिरावट बढ़ गई.

लाेग अमूमन अपने पूरे पैसाें काे कही प्रॉपर्टी, कही रियल एस्टेट, इक्विटी या स्पाेट् र्स टीम में लगाकर रखते है लेकिन ह्वांग ने ताे पूरा पैसा बाजार में लगा रखा था. शेयर के दाम गिरे ताे उनकी सारी की सारी संपत्ति डूब गई. ह्वांग की कंपनी आर्चेगाेस कैपिटल मैनेजमेंट का मार्च में धराशाई हाेना वित्तीय इतिहास की सबसे बड़ी विफलताओं में से एक माना जा रहा है. क्याेंकि किसी भी व्यक्ति ने इतनी बड़ी रकम इतने जल्दी कभी नहीं गंवाई. 

बताया जाता है कि जब ह्वांग अपने शिखर पर थे ताे उनकी संपत्ति करीब 3000 कराेड़ डॉलर यानि करीब 2.2 लाख कराेड़ भारतीय रुपये में थी. वे लाेगाें काे छद्य नाम से निवेश की सुविधा देते थे और कंपनी के नाम पर ह्वांग ने बैंकाें से अरबाें डॉलर उधार ले रखे थे. उनकी कंपनी उधारी के पैसाें पर शेयर बाजार में दांव लगाती थी. उन्हाेंने कुछ कंपनियाें में ही सारा पैसा लगा रखा था जिनमें वायकॉम, सीबीएस, जीएसएक्स, टेकेडू और शेपीफाय जैसी कंपनियां शामिल थी.

ह्वांग के ऊपर इनसाइडर ट्रेडिंग के आराेप भी लग चुके है. उन्हाेंने साल 2008 में टाइगर एशिया नाम का हेज फंड शुरू किया था. जिसके जरिए वे उधार के पैसाें से इशया के अलग-अलग देशाें के शेयर बाजाराें में दांव लगाता था. लेकिन बाद में इनसाइडर ट्रेडिंग के आराेप लगने के बाद उन्हें निवेशकाें का पैसा लाैटाना पड़ा था. उन पर पांच साल के लिए सार्वजनिक धन प्रबंधन करने पर राेक भी लगा दी थी. इसके बंद हाेने के बाद उन्हाेंने आर्चेगाेस शुरू की थी जिसका हाल आज सबके सामने है.