शेयर बाजार में भारी गिरावट, सेंसेक्स 1785 अंक से ज्यादा टूटा, निफ्टी 14000 के करीब आया, financials शेयर फिसले

238

लॉकडाउन के डर से बाजार में बिकवाली हावी रही। जिसके चलते बाजार आजदिन के निचले स्तर पर बंद हुआ। सेसेंक्स 1707.94 अंक यानी 3.44 फीसदी की गिरावट के साथ 47,883.38 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं निफ्टी 524.05 अंक यानी 3.253 फीसदी टूटकर 14,310.80 के स्तर पर बंद हुआ है।

मिली जानकारी के मुताबिक Sputnik V की इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी मिल गई है। SEC ने Dr Reddys की अर्जी को मंजूरी दे दी है। DCGI को जल्द अपना सिफारिश SEC भेजेगी।

संजीव भसीन ने बाजार पर राय देते कहा कि बाजार में लॉकडाउन की खबरों की आशंका के चलते गिरावट नजर आई है लेकिन एक से दो दिनों में इस पर स्थिति साफ हो जायेगी। बाजार में मेटल शेयरों की गिरावट का बड़ा कारण चीन का बयान है जिसमें चीन का कहना है कि वह अपने यहां मेटल की कीमतों को नियंत्रित कर सकता है या इसके लिए अपना रिजर्व रिलीज कर सकता है। इसके बाद से मेटल शेयरों में फिसलन देखी गई है।

भसीन ने कहा कि मेटल की कीमतों में गिरावट से जहां एक ओर मेटल के शेयरों में दबाव नजर आयेगा वहीं मटेरियल कॉस्ट में कमी आने के चलते ऑटो शेयरों में रौनक देखने को मिल सकती है। उन्होंने जोर देकर कहा कि निवेशकों को इस उतार-चढ़ाव इसे पचाना चाहिए नहीं तो शेयर बाजार में ट्रेड कैसे कर पायेंगे। इसलिए इस मौके पर भी बाजार में क्वालिटी स्टॉक खरीदना चाहिए।

एंटी-ट्रस्ट कानून (Antitrust Law) का उल्लंघन करने के आरोप में चीन की सरकार ने दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा (Alibaba) पर 18 अरब युआन यानी 20,500 करोड़ रुपये से अधिक का जुर्माना लगाया। चीन के मार्केट रेगुलेटर स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन फॉर मार्केट रेग्युलेशन (SAMR) ने अलीबाबा होल्डिंग्स को एंटी-मोनोपोली लॉ के उल्लंघन (anti-monopoly violations) का दोषी पाया और कंपनी पर इतनी भारी-भरकम पेनाल्टी लगाई।

अलीबाबा के सीईओ ने सोमवार को कहा कि चीन ने अलीबाबा पर जो पेनाल्टी लगाई है, उससे कंपनी पर कोई असर नहीं होगा। इसके साथ ही कंपनी पर लटकी अनिश्चतता की तलवार भी हट गई है, जिससे हॉन्ग कॉन्ग स्टॉक एक्सचेंज (Hong Kong Stock Exchange) में आज अलीबाबा के स्टॉक्स में जबरदस्त उछाल आई। कंपनी के शेयर 9% तक चढ़ गए, जो पिछले 3 महीने में सिंगल डे में सबसे बड़ी उछाल है।