Ukraine के न्यूक्लियर प्लांट पर रूसी हमले ने बढ़ाई विश्वयुद्ध की आशंका, जेलेंस्की बोले- तो हो जाएगा यूरोप का अंत

369
ukraine nuclear power plant
ukraine nuclear power plant

रूसी सैनिकों ने शुक्रवार को यूरोप में सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र पर हमला कर उसे अपने कब्जे में ले लिया। इसके साथ ही दुनिया पर विश्वयुद्ध का खतरा मंडराने लगा है। संयुक्त राष्ट्र और यूक्रेन के अधिकारियों ने कहा कि अग्निशामकों की मदद से संयंत्र में लगी आग को बुझा ली गई। हालांकि इससे अधिक कोई जानकारी साझा नहीं की गई है। आपको बता दें कि रूसी सेना ने कई शहरों को कब्जे में ले लिया है। हालांकि शुक्रवार की लड़ाई में उस हिसाब से सफलता नहीं मिली। इस बीच यूक्रेन छोड़कर भागे शरणार्थियों की संख्या 12 लाख से अधिक हो गई है।

यूक्रेन पर हमले को लेकर दुनिया भर में रूस की निंदा हो रही है। क्रेमलिन ने फेसबुक, ट्विटर, बीबीसी और यू.एस. सरकार द्वारा वित्त पोषित वॉयस ऑफ अमेरिका को बैन कर दिया है। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक कानून पर हस्ताक्षर किए, जिसके अनुसार युद्ध पर रूसी सरकार की आधिकारिक लाइन के खिलाफ जाने वाले फर्जी खबरें फैलाने के लिए 15 साल तक की जेल की सजा दी जा सकती है।

इस पाबंदियों के बाद मीडिया और सोशल मीडिया आउटलेट्स ने कहा कि वे स्थिति का मूल्यांकन करते समय रूस के अंदर अपना काम रोक देंगे। सीएनएन और सीबीएस न्यूज ने घोषणा की कि वे रूस में प्रसारण बंद कर देंगे। ब्लूमबर्ग ने वहां अपने पत्रकारों के काम को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है।

यूक्रेन की राजधानी कीव पर रूसी कब्जे का खतरा मंडरा रहा है। विशाल संख्या में रूसी बख़्तरबंद राजधानी के बाहर रुका हुआ है। पुतिन की सेना ने यूक्रेन के शहरों और अन्य साइटों पर सैकड़ों मिसाइलें दागे और तोपखाने से हमले शुरू किए हैं। 

संयुक्त राष्ट्र की अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के प्रमुख राफेल मारियानो ग्रॉसी ने दक्षिणपूर्वी शहर एनरहोदर में ज़ापोरिज्जिया परमाणु संयंत्र पर हमले को लेकर कहा कि रूसी मिसाइल ने एक प्रशिक्षण केंद्र को तबाह कर दिया। हालांकि, सभी छह रिएक्टर सुरक्षित हैं। आपको बता दें कि 1986 में यूक्रेन के चेरनोबिल में हमले ने एक तबाही का डर पैदा कर दिया था। एक भावनात्मक भाषण में यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा कि उन्हें एक ऐसे विस्फोट की आशंका है जो सभी के लिए अंत होगा। यूरोप के लिए अंत होगा।

स्वीडन से लेकर चीन तक के परमाणु अधिकारियों ने कहा कि किसी रेडिएशन की सूचना नहीं मिली है। अधिकारियों ने कहा कि रूसी सैनिकों ने पूरे स्थल पर नियंत्रण कर लिया है, लेकिन संयंत्र के कर्मचारियों ने इसे चलाना जारी रखा है। ग्रॉसी ने हमले के बाद कहा कि केवल एक रिएक्टर 60% क्षमता पर काम कर रहा था। ग्रॉसी ने कहा कि आग में दो लोग घायल हो गए। यूक्रेन के राज्य परमाणु संयंत्र संचालक एनरहोआटम ने कहा कि तीन यूक्रेनी सैनिक मारे गए और दो घायल हो गए।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक आपात बैठक मे, यूक्रेन के संयुक्त राष्ट्र के राजदूत सर्गेई किस्लिट्स्या ने कहा कि संयंत्र की रूसी गोलाबारी के परिणामस्वरूप आग लग गई। उन्होंने मास्को पर परमाणु आतंकवाद का एक कार्य करने का आरोप लगाया। वहीं, सबूत पेश किए बिना रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेनकोव ने दावा किया कि यूक्रेनी समूह ने ज़ापोरिज्जिया में आग लगा दी थी।

परमाणु सुरक्षा विशेषज्ञों ने कहा कि परमाणु रिएक्टरों के बीच लड़ा गया युद्ध एक अभूतपूर्व और अत्यधिक खतरनाक स्थिति पैदा कर सकता है। वाशिंगटन में यूनियन ऑफ कंसर्नड साइंटिस्ट्स के एडविन लाइमैन ने कहा, “कोई भी परमाणु संयंत्र पूर्ण पैमाने पर सैन्य हमले के संभावित खतरे का सामना करने के लिए डिज़ाइन नहीं किया गया है।”

परमाणु युद्ध की रोकथाम के लिए अंतर्राष्ट्रीय चिकित्सकों के डॉ. एलेक्स रोसेन ने कहा कि यह घटना संभवतः सैन्य इकाइयों द्वारा अपने हथियारों की सटीकता को कम करके आंकने का परिणाम थी। उन्होंने कहा, “रूस को अपने क्षेत्र को दूषित करने में कोई दिलचस्पी नहीं हो सकती है।” उन्होंने कहा कि खतरा सिर्फ रिएक्टरों से नहीं है, बल्कि दुश्मन की आग की चपेट में आने वाली भंडारण सुविधाओं से भी है, जो खर्च किए गए ईंधन की छड़ें रखते हैं।

हमले के मद्देनजर, ज़ेलेंस्की ने फिर से पश्चिम से अपने देश पर नो-फ्लाई ज़ोन लागू करने की अपील की। लेकिन नाटो के महासचिव जेन्स स्टोल्टेनबर्ग ने यूरोप में बहुत व्यापक युद्ध के जोखिम का हवाला देते हुए उस संभावना को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि नो फ्लाई जोन लागू करने के लिए नाटो के विमानों को रूसी विमानों को मार गिराना होगा।