यूक्रेन पर रूस का 9वें दिन भी हमला जारी, रेस्क्यू ऑपरेशन के बीच PM मोदी की यूक्रेन संकट पर 5वीं बैठक

    645
    PM Modi holds high level meeting

    यूक्रेन पर नौवें दिन भी रूस की तरफ से लगातार बमबारी की जा रही है. वहां पर सुबह न्यूक्लियर पावर प्लांट में आग लग गई थी. हालांकि उसे बुझा दिया गया. इसके बाद आईएईए समेत समेत दुनियभर के देशों ने रूस के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की तो वहीं ब्रिटेन ने यूएनएससी की आपात बैठक बुलाई. इस बीच, यूक्रेन में एक और भारतीय छात्र को गोली लगने की खबर शुक्रवार को सामने आई. केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री वी. के. सिंह ने इसकी जानकारी दी. इधर, यूक्रेन संकट और वहां पर बने ताजा हालात को लेकल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अहम समीक्षा बैठक कर रहे हैं.

    कीव से आ रहे एक छात्र को गोली लगी- वीके सिंह

    यूक्रेन के पड़ोसी देश पोलैंड में मौजूद केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह ने कहा है कि आज ख़बर मिली कि कीव से आ रहे एक छात्र को गोली लग गई और उसे बीच रास्ते से ही वापस कीव ले जाया गया. हम कम से कम नुकसान में ज़्यादा से ज़्यादा बच्चों को निकालने की कोशिश कर रहे हैं.

    वीके सिंह ने बताया कि अभी 1600-1700 बच्चों को भारत भेजना है. पिछले तीन दिनों में सात फ्लाइट में लगभग 1400 बच्चे गए हैं. कुछ बच्चे अपने जरिए से वॉरसॉ पहुंचे थे और उन्होंने अपने रिश्तेदारों के साथ रुकने का फैसला किया है. वह पोलैंड में सुरक्षित हैं. उन्होंने कहा कि हम कल कुल 5 फ्लाइट निकालेंगे, जिसमें हम 800-900 बच्चों को भारत भेंजेंगे. हमने बच्चों के रुकने के लिए यहां अस्थायी व्यवस्था बनाई है.

    रूसी हमले के खिलाफ ब्रिटिश पीएम का आह्वान

    इससे पहले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के कार्यालय ने कहा कि यूक्रेन में रूसी सैनिकों द्वारा परमाणु ऊर्जा संयंत्र पर हमला करने और वहां आग लगने के बाद वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बलुाने का आह्वान करेंगे. जॉनसन के कार्यालय ने एक बयान में कहा कि परमाणु ऊर्जा संयंत्र पर रूस के हमले के बाद वहां आग लगने पर जॉनसन ने तड़के यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की से बात की. जॉनसन ने कहा है कि वह रूस और अन्य करीब सहयोगियों के समक्ष यह मुद्दा उठाएंगे.

    कार्यालय के अनुसार, वह और ज़ेलेंस्की इस बात पर सहमत हुए कि रूस को तुरंत हमला करना बंद कर देना चाहिए और आपात सेवाओं को संयंत्र तक निर्बाध पहुंच की अनुमति देनी चाहिए. दोनों इस बात पर भी सहमत हुए कि युद्धविराम आवश्यक है. जॉनसन के कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री ने कहा कि (रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर) पुतिन की लापरवाही भरी कार्रवाई प्रत्यक्ष रूप से पूरे यूरोप की सुरक्षा के लिए खतरा उत्पन्न कर सकती है. उन्होंने कहा कि ब्रिटेन यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करेगा कि स्थिति और ना बिगड़े.’’

    इस बीच, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने भी परमाणु संयंत्र पर हमले के बाद जेलेंस्की से बात की. ट्रूडो ने ट्वीट किया कि रूस के ये हमले अस्वीकार्य हैं और तुरंत रुकने चाहिए. गौरतलब है कि यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र के प्रवक्ता ने बताया है कि दक्षिणी यूक्रेन के एनेर्होदर शहर ने ‘जपोरिजिया परमाणु संयंत्र’ पर रूस के हमला करने के बाद प्रतिष्ठान में आग लग गयी.