रुड़कीः कृषि कानूनों के विरोध में आज कांग्रेस निकालेगी पदयात्रा पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत करेंगे नेतृत्व

412

तीनों कृषि कानूनों केे विरोध में किसान कांग्रेस बुधवार को रुड़की के कुंजा बहादुरपुर शहीद स्मारक से इकबालपुर तक हरीश रावत के नेतृत्व में पदयात्रा निकालेगी। किसान कांग्रेस रुड़की ग्रामीण के जिलाध्यक्ष सेठपाल परमार ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के नेतृत्व में बुधवार को कृषि कानूनों का विरोध किया जाएगा।

इसको लेकर कुंजा बहादुरपुर शहीद स्मारक से इकबालपुर तक पदयात्रा निकाली जाएगी। इसमें किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुशील राठी व क्षेत्रीय विधायक ममता राकेश सहित कांग्रेस के कई पदाधिकारी शामिल रहेंगे।

वहीं महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव अनुपमा रावत ने कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि कानून लाकर किसानों का उत्पीड़न करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि डबल इंजन की सरकार पूरी तरह से फेल हो चुकी है। प्रदेश की जनता एक बार फिर कांग्रेस की ओर आशा भरी निगाहों से देख रही है।

मंगलवार को लक्सर तहसील मुख्यालय में तीन कृषि कानून पास किए जाने को लेकर केंद्र व राज्य सरकार के विरोध में एक दिवसीय धरना आयोजित किया गया। इस मौके पर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अनुपमा रावत ने कहा कि आज पूरे देश में भाजपा सरकार के खिलाफ लोग लामबंद हैं। वे भाजपा को सत्ता से बाहर करने की तैयारी में लगे हुए हैं, जबकि भाजपा के कुछ दिग्गज नेता अभी भी उत्तराखंड की सभी सीटों पर जीत का दावा कर मुंगेरीलाल के हसीन सपने देख रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में डबल इंजन की सरकार अपने वायदों पर खरा नहीं उतर रही है। हरीश रावत सरकार में जिन 12 पेंशनों को लागू किया था, उन्हें भाजपा सरकार ने घटाकर केवल चार पेंशनों तक समेट दिया है, जबकि कई की पेंशन को बंद कर दिया गया है। इस मौके पर किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुशील राठी ने कहा कि भाजपा की गलत नीतियों के कारण इस देश का प्रत्येक व्यक्ति परेशान है।

महंगाई चरम पर है और बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है। केंद्र सरकार ने पूरे देश को बर्बाद कर दिया है। इस मौके पर किसान कांग्रेस के जिला अध्यक्ष अनुज सैनी, कुलबीर चौधरी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डॉ. उमादत्त शर्मा, सत्यवीर चौधरी, अरुण चौधरी, संजय सैनी एडवोकेट, संजय वर्मा, राव फिरोज, बालेश्वर सिंह, कमला कश्यप, वेद प्रकाश, संजय वर्मा, सत्यवीर गुर्जर और केपी तोमर आदि शामिल रहे।