मुलायम सिंह यादव को रियाजुल्ला खान ने दी श्रद्धांजलि, कहा- ‘पिछड़े वर्ग के मसीहा थे नेता जी’

164
Riyazullah khan Pays Tribute to Mulayam Singh

समाजवादी लोहिया वाहिनी ज़िला अध्यक्ष रियाजुल्ला खान ने मुलायम सिंह यादव के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। ज़िला अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश में राजनीतिक सामंतवाद को चुनौती और शिकस्त देने वाले मुलायम सिंह यादव को विनम्र श्रद्धांजलि।राजनीतिक सामंतवाद का मूल तत्व यह है कि देश में अपरकॉस्ट के नेतृत्व वाली पार्टी और नेता ही ऐसी पार्टी बना सकते हैं, जो सरकार बना सके, राजनीतिक सत्ता पर नियंत्रण कर सके और प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री बन सके।

नम आँखों से रियाजुल्ला खान बोले- उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव अपने नेतृत्व में सपा पार्टी बनाकर, उसकी सत्ता कायम करके और मुख्यमंत्री बनकर यह साबित कर दिया कि ऐसी पार्टी बनाना कोई अपरकॉस्ट की वंशानुगत योग्यता नहीं है और न ही उसका विशेषाधिकार है। भारत में सबसे पहले तमिलनाडु में जस्टिस पार्टी (1915) ने राजनीति सामंतवाद को खत्म कर अपनी सरकार ( 1921) सरकार बनाई थी।

लोहिया वाहिनी ज़िला अध्यक्ष ने अंत में कहा- उत्तर प्रदेश में राजनीतिक सामंतवाद को चुनौती देने और शिकस्त देने का सबसे बड़ा श्रेय दो व्यक्तियों को जाता है- एक मान्यवर कांशीराम और दूसरे मुलायम सिंह यादव। इन दोनों ने उत्तर प्रदेश में पिछड़े-दलितों को सत्ता का दावेदार बनाया और करीब 25 ( 1993 से लेकर 2017 तक) वर्षों से अधिक समय तक राजनीतिक सामंतवाद को स्थापित नहीं होने दिया था।