RBI ने किया 1 अगस्त से सैलरी, पेंशन और इएमआई पेमेंट के नियमो में बदलाव, जानिए आप पर क्या होगा असर

607
RBI governor Shaktikant das
RBI governor Shaktikant das

कर्मचारियों के लिए जरूरी खबर है. सैलरी, पेंशन और इएमआई पेमेंट जैसे जरूरी ट्रांजैक्शंस के लिए अब कर्मचारियों को वर्किंग दिनों का इंतजार नहीं करना होगा. आरबीआई ने नेशनल ऑटोमेटेड क्लीयरिंग हाउस (एन. ए. सी. एच.) के नियमों में बदलाव किया है. इस बदलाव के तहत अब आपको अपनी सैलरी के लिए या पेंशन के लिए शनिवार और रविवार यानी वीकेंड के गुजरने का इंतजार नहीं करना होगा. ये सेवाएं आपको पूरे हफ्ते मिलेंगी. ये नए नियम 1 अगस्त, 2021 से लागू हो जाएंगे. 

अगर महीने की पहली तारीख वीकेंड पर पड़ जाती है, तो सैलरीड क्लास को अपनी सैलरी अकाउंट में क्रेडिट होने के लिए सोमवार तक का इंतजार करना पड़ता है. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांता दास ने पिछले महीने जून की क्रेडिट पॉलिसी रीव्यू के दौरान ऐलान किया था कि ग्राहकों की सुविधाओं को और बढ़ाने के लिए और  24×7 मौजूद रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट का लाभ उठाने के लिए, एन. ए. सी. एच. जो अभी बैंकों में कार्य दिवसों में उपलब्ध है, इसे हफ्ते के सभी दिनों लागू करने का प्रस्ताव दिया गया है, जो 1 अगस्त, 2021 से प्रभावी होगा. 

एन. ए. सी. एच. एक बल्क पेमेंट सिस्टम है जिसे नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेश ऑफ इंडिया संचालित करता है. जो कई तरह के क्रेडिट ट्रांसफर जैसे डिविडेंड, इंटरेस्ट, सैलरी और पेंशन की सुविधा देता है. इसके अलावा इलेक्ट्रिसिटी बिल का पेमेंट, गैस, टेलीफोन, पानी, लोन की EMI, म्यूचुअल फंड निवेश और इंश्योरेंस प्रीमियम के भुगतान की भी सुविधा देता है. मतलब अब आपको इन सारी सुविधाओं को हासिल करने के लिए सोमवार से शुक्रवार का इंतजार नहीं करना पड़ेगा, ये काम वीकेंड्स में भी हो जाएंगे.

आरबीआई ने कहा कि एन. ए. सी. एच. लाभार्थियों के लिए डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर के एक लोकप्रिय और प्रमुख डिजिटल मोड के रूप में उभरा है, जो मौजूदा वक्त में कोविड-19 के दौरान समय पर और पारदर्शी तरीके से सरकारी सब्सिडी के हस्तांतरण में मदद करता है. वर्तमान में, एन. ए. सी. एच. की सेवाएं केवल उन्हीं दिनों मिलती हैं जब बैंक काम कर रहे होते हैं, लेकिन 1 अगस्त से यह सुविधा सप्ताह के सभी दिनों में उपलब्ध होगी.