RBI गवर्नर शक्तिकांत दास बोले – अगली तिमाही में GDP ग्रोथ निगेटिव से पॉजिटिव होने की उम्मीद

130

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास का कहना है कि कोरोना संकट से अब देश की अर्थव्यवस्था ऊबर चुकी है. अगली तिमाही में देश की जीडीपी ग्रोथ निगेटिव से पॉजिटिव में लौटने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि आरबीआई ने अगली तिमाही के लिए जीडीपी ग्रोथ का अनुमान बढ़ाकर 0.10 फीसदी कर दिया है. वहीं, चौथी तिमाही यानी जनवरी-मार्च 2021 के दौरान देश की जीडीपी ग्रोथ 0.70 फीसदी रहने का अनुमान है. हालांकि, पूरे साल के लिए जीडीपी ग्रोथ -7.5 फीसदी रह सकती है. उन्होंने बताया कि भारतीय सरकार की ओर से जारी राहत पैकेज से आर्थिक ग्रोथ रिकवरी आई है.

देश की दिग्गज ब्रोकरेज फर्म मोतीलाल ओसवाल ने गुरुवार को जारी इकोस्कोप रिपोर्ट में दिया है. ब्रोकरेज फर्म का कहना है कि कोविड-19 की दूसरी लहर आने की चिंता बनी हुई है लेकिन आर्थिक गतिविधियां लगातार बढ़ रही हैं. इससे जीडीपी ग्रोथ मार्च तिमाही में पॉजिटिव हो जाएगी.

भारत जैसे उभरते बाजारों में अगले साल आर्थिक तरक्की की रफ्तार काफी तेज रह सकती है. मॉर्गन स्टैनली ने अपनी रिसर्च रिपोर्ट में इमर्जिंग मार्केट्स की एवरेज जीडीपी ग्रोथ 7.4% रहने का अनुमान दिया है. दिग्गज अमेरिकी फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी की रिपोर्ट के मुताबिक 2021 में इन मार्केट्स की इकनॉमिक ग्रोथ को खास तौर पर पाँच फैक्टर्स का सपोर्ट मिलेगा.

पहला फैक्टर, ज्यादातर अहम उभरते बाजारों में फिर से बड़े पैमाने पर लॉकडाउन होने का कम खतरा है. जनवरी 2021 से कोविड-19 का वैक्सीन लोगों की पहुंच में आ जाने से भी ग्रोथ में तेजी आएगी.इसके अलावा विकसित देशों में विदेशी सामान और सेवाओं की मांग बढ़ने से भी तरक्की की रफ्तार को बढ़ावा मिलेगा.

अगस्त में इमर्जिंग मार्केट्स का मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई एक बार फिर से एक्सपैंशन मोड में यानी 50 से ऊपर चला गया. अगले महीने यानी सितंबर में उनका इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन रेट पॉजिटिव हो गया और अक्टूबर में सर्विसेज पीएमआई विकसित बाजारों के लेवल पर पहुंच गया.