राहुल गांधी बोले – भारतीय चुनावों में सोशल मीडिया कंपनियां चाहें तो कोई भी पार्टी चुनाव जीत सकती हैं.

58
CONGRESS

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि सोशल मीडिया के जरिए चुनावों में धांधली की जा सकती है और सोशल मीडिया कंपनियां चाहें तो किसी भी पार्टी को चुनाव जिता सकती हैं. पूर्व कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने किसी पार्टी का नाम लिए बिना यह भी कहा कि एक विचारधारा और उसके नेताओं द्वारा समाज में वैमनस्य पैदा करने के लिए सांप्रदायिक हिंसा को रणनीतिक हथियार के रूप में बढ़ावा दिया जा रहा है. उन्‍होंने‘भारत जोड़ो’ यात्रा के दौरान सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर और जीजी पारिख के नेतृत्व में सिविल सोसाइटी के सदस्‍यों के साथ बातचीत के दौरान यह बात कही.

कांग्रेस सांसद ने कहा, ‘‘भले ही EVM (इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन) सुरक्षित है लेकिन सोशल मीडिया के माध्यम से भारतीय चुनावों में धांधली हो सकती है. बड़ी सोशल मीडिया कंपनियां चाहें तो किसी भी पार्टी को चुनाव जिता सकती हैं. वहां व्यवस्थित तरीके से पूर्वाग्रह लागू किया जा रहा है और मेरे सोशल मीडिया हैंडल इसका एक जीवंत उदाहरण है.” कांग्रेस के एक बयान में कहा गया है कि बैठक के दौरान प्रतिनिधियों ने राजनीतिक लोकतंत्र और सांप्रदायिक सद्भाव जैसे प्रासंगिक मुद्दों को उठाया. राजनीतिक लोकतंत्र के बारे में पाटकर ने कहा कि यह ईवीएम के बारे में संदेह तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसका मतलब यह भी है कि वीवीपैट (वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल) से मिलान बेहद जरूरी है. मेधा पाटकर ने सभी दलों के घोषणापत्र की रूपरेखा तैयार किए जाने और निर्माण में नागरिकों की भागीदारी के बारे में बात की. उन्होंने कहा कि घोषणापत्र को सभी राजनीतिक दलों के लिए बाध्यकारी बनाने के संबंध में कानूनी सुधार किए जाने चाहिए.

राहुल गाँधी ने कहा, ‘‘एक विचारधारा और उसके नेताओं द्वारा समाज में वैमनस्य पैदा करने के लिए सांप्रदायिक हिंसा को रणनीतिक हथियार के रूप में बढ़ावा दिया जा रहा है.” गांधी यात्रा में शामिल लोगों के साथ रात में अकोला में रुकेंगे और गुरुवार को बुलढाणा के लिए रवाना होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here