कोरोना टीकाकरण: पहली मार्च से 20 हजार निजी केंद्रों पर लगेगा टीका, स्वास्थ्य संबंधी इन परेशानियों से जूझ रहे लोगों को मिलेगी प्राथमिकता

    420

    पहली मार्च से निजी केंद्रों पर टीकाकरण की इजाजत के बाद सरकार इसकी कीमत तय करने की ओर भी कदम बढ़ा रही है। आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि निजी अस्पताल कोरोना के टीके की एक डोज के लिए अधिकतम 250 रुपये ले सकेंगे। पहली मार्च से 60 साल या इससे अधिक उम्र के बुजुर्गो के लिए और 45 से 59 साल के ऐसे लोगों के लिए टीकाकरण शुरू किया जाएगा, जो किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं। सरकारी अस्पतालों में टीका मुफ्त लगाया जाएगा, जबकि निजी केंद्रों पर कीमत देकर टीका लगवाया जा सकेगा।

    सूत्रों ने बताया कि टीकाकरण के लिए 250 रुपये की अधिकतम सीमा तय की जाएगी। इसमें 150 रुपया टीके की कीमत है और 100 रुपये सर्विस चार्ज के तौर पर वसूलने की अनुमति होगी। राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों को इस बारे में सूचित कर दिया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया था कि कोविन या आरोग्य सेतु के जरिये रजिस्ट्रेशन कराते हुए पात्र लोग टीका लगवा सकेंगे। इन डिजिटल प्लेटफार्म पर उन्हें नजदीकी सरकारी एवं निजी टीकाकरण केंद्रों एवं वहां उपलब्ध तारीख व समय की जानकारी मिल जाएगी। लोग अपनी इच्छा से केंद्र चुन सकेंगे। इनके साथ-साथ टीकाकरण केंद्र पर पहुंचकर रजिस्ट्रेशन कराने की सुविधा भी दी जाएगी।

    देशव्यापी टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी से हुई थी। सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया गया है। अब जबकि इस प्राथमिकता समूह में करीब आधे लोगों का टीकाकरण हो चुका है, तब सरकार अन्य प्राथमिकता समूहों के टीकाकरण की ओर कदम बढ़ा रही है। टीकाकरण की गति को तेज करने के लिए पहली मार्च से शुरू हो रहे टीकाकरण के अगले चरण में निजी स्वास्थ्य केंद्रों को भी शामिल करने का फैसला किया गया है, जहां कीमत चुकाकर टीका लगवाया जा सकेगा।