कांग्रेस अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल शशि थरूर को चेन्नई में करारा झटका – 700 में सिर्फ 12 प्रतिनिधि ही आए बैठक में हुए शामिल

77
shashi tharoor files nomination

कांग्रेस अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने गुरुवार को कहा कि वह कांग्रेस को युवा भारत की पार्टी बनाना चाहते हैं और पार्टी अध्यक्ष की उनकी उम्मीदवारी के पक्ष में दिनों-दिन समर्थन बढ़ता ही जा रहा है।

दो दशकों से अधिक समय बाद कांग्रेस के पहले गैर-गांधी अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए चुनावी मैदान में उतरे पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर को तब करारा झटका लगा, जब तमिलनाडु में पार्टी के प्रतिनिधियों से उन्हें बहुत ठंडा रिस्पॉन्स मिला. 66 वर्षीय थरूर गुरूवार (6 अक्टूबर) को राज्य के 700 से अधिक कांग्रेस प्रतिनिधियों का समर्थन प्राप्त करने के लिए चेन्नई में थे, लेकिन उनमें से सिर्फ 12 प्रतिनिधि ही उनकी बैठक में शामिल हुए. ये बैठक पार्टी के राज्य मुख्यालय सथियामूर्ति भवन में आयोजित की गई थी.

कांग्रेस अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने गुरुवार को कहा कि वह कांग्रेस को युवा भारत की पार्टी बनाना चाहते हैं और पार्टी अध्यक्ष की उनकी उम्मीदवारी के पक्ष में दिनों-दिन समर्थन बढ़ता ही जा रहा है। केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से सांसद थरूर तमिलनाडु में पार्टी अध्यक्ष पद के चुनाव से पहले प्रचार अभियान के सिलसिले में आए हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो’ यात्रा और पार्टी अध्यक्ष पद के चुनाव को उनकी पार्टी किस रूप में देखती है यह मायने रखता है, बाहरी लोगों की सोच से फर्क नहीं पड़ता।

थरूर ने चेन्नई में कहा, “अगर वे मेरी बैठक में शामिल होने से डरते हैं तो यह उनका नुकसान है. यहां हम एक रचनात्मक आदान-प्रदान कर सकते थे.” उन्होंने कहा, “गांधी परिवार ने स्पष्ट किया है कि उनका कोई आधिकारिक उम्मीदवार नहीं है. हम इस मिथक को दूर करेंगे कि मल्लिकार्जुन खड़गे आधिकारिक उम्मीदवार हैं.”

बता दें कि थरूर पहले ऐसे नेता हैं, जिन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने का ऐलान किया था. उन्होंने सोनिया गांधी से मुलाकात करने के बाद ही इसका ऐलान किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here