UNGA के 76वें सत्र को संबोधित करने न्यूयॉर्क पहुंचे पीएम मोदी, लोगों ने लगाए ‘भारत माता की जय’ के नारे

    229

    अमेरिका के व्हाइट हाउस में शुक्रवार को हुई क्वाड देशों की बैठक में शिरकत करने के बाद आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के 76वें सत्र को संबोधित करेंगे. इसके लिए वो न्यूयॉर्क पहुंच गए हैं. न्यूयॉर्क पहुंचने के बाद पीएम मोदी ने होटल के बाहर उनका इंतजार कर रहे लोगों से मुलाकात की. इस दौरान ‘वंदे मातरम’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे भी लगाए गए.

    इससे पहले पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई जिसके दौरान, आतंकवाद का मुकाबला कैसे किया जाए, इसपर प्रमुख फोकस था. अफगानिस्तान में पाकिस्तान द्वारा निभाई गई घातक भूमिका और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस पर संज्ञान लेने की आवश्यकता को लेकर अमेरिकी वार्ताकारों के साथ बात हुई है.

    सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पीएम मोदी ने बताया कि राष्ट्रपति जो बाइडेन के नेतृत्व में, भारत-अमेरिका संबंध एक दशक के परिवर्तन के लिए तैयार हैं, और साथ में, वे विश्व स्तर पर भी इससे बदलाव ला सकते हैं.यह परिवर्तन परंपरा, प्रौद्योगिकी, व्यापार, ट्रस्टीशिप, प्रतिभा और ट्रस्ट की साझेदारी से होगा.

    भारत के लिए बेहद खास है संयुक्त राष्ट्र महासभा का 76वां सत्र
    संयुक्त राष्ट्र महासभा का 76वां सत्र भारत के काफी खास माना जा रहा है, क्योंकि भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता कर रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं इसे संबोधित करेंगे. ऐसे में भारत, विश्व के सभी देशों के सामने मजबूती से अपनी बात को रख सकता है. कहा जा रहा है कि यूएनजीए में जलवायु परिवर्तन, सतत विकास, वैक्सीन की उपलब्धता, आर्थिक मंदी, महिला सशक्तिकरण, महिलाओं की सरकार में भागेदारी, आतंकवाद जैसे मुद्दों पर विशेष चर्चा की जाएगी.

    क्या है संयुक्त राष्ट्र महासभा

    संयुक्त राष्ट्र महासभा संयुक्त राष्ट्र के 6 अंगों में से एक हैं और यही केवल सर्वांगीण संस्था है. महासभा संयुक्त राष्ट्र का महत्त्वपूर्ण अंग है और इसमें संयुक्त राष्ट्र के सभी 193 सदस्य राष्ट्र प्रतिनिधित्व करते हैं. प्रतिवर्ष सितंबर में संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्यों की वार्षिक महासभा का आयोजन न्यूयॉर्क के जनरल असेंबली में किया जाता है और इसमें सामान्य बहस होती है, तथा कई देश प्रमुखता से भाग लेते हैं. महासभा विचार-विमर्श, नीति-निर्धारण जैसे कार्यों के लिये उत्तरदायी है.