देश में कोरोना से स्थिति भयावह: प्रधानमंत्री मोदी ने फिर बुलाई उच्चस्तरीय बैठ, ऑक्सीजन समेत कई मुद्दों पर हुई चर्चा

    473

    देश में कोरोना संकट के बीच मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर उच्चस्तरीय बैठक की। इस बैठक में उन्होंने देश में मौजूदा मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर की समीक्षा की। बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने अधिकारियों से हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को तेजी से विकसित करने का निर्देश दिया है। 

    प्रधानमंत्री मोदी ने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिया कि वे पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों को जल्द से जल्द शुरू करने के लिए राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम करें। वहीं अधिकारियों ने पीएम को यह भी अवगत कराया कि वे राज्यों को पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। पीएम ने जोर देकर कहा कि कोविड प्रबंधन के संबंध में विशिष्ट दिशा-निर्देशों और रणनीतियों को ठीक से लागू करने की आवश्यकता है।

    अधिकारियों ने पीएम मोदी को दी तैयारियों की जानकारी
    इस दौरान अधिकारियों ने पीएम मोदी को देश में ऑक्सीजन की उपलब्धता और आपूर्ति में तेजी लाने के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे जानकारी दी। इसके अलावा मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर और कोरोना प्रबंधन पर काम कर रहे सशक्त समूह ने पीएम को बेड / सीयूएस की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी। 

    वहीं संचार पर काम करने वाले सशक्त समूह ने लोगों में जागरूकता में सुधार के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में पीएम मोदी को सूचित किया। पीएम को ऑक्सीजन टैंक के परिवहन के लिए वायूसेना द्वारा शुरू की गई ऑक्सीजन एक्सप्रेस, घरेलू सॉर्ट और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कामकाज के बारे में जानकारी दी गई।

    अधिकारियों ने ऑक्सीजन पर दी जानकारी
    मीटिंग में अधिकारियों ने पीएम मोदी को जानकारी देते हुए कहा कि राज्यों को मिलने वाली ऑक्सीजन का कोटा बढ़ा दिया गया है। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि अगस्त 2020 में देश में हर दिन 5,700 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीन का प्रोडक्शन होता था, जो कि 25 अप्रैल 2021 तक बढ़कर 8,922 मीट्रिक टन हो गया है। अधिकारियों को  अधिकारियों ने उम्मीद जताते हुए कहा कि अप्रैल के आखिर तक देश में रोजाना 9,250 मीट्रिक टन ऑक्सीजन बनाई जाने लगेगी।

    देश में कोविड-19 के 3,23,144 नए मामले, मृतकों की संख्या दो लाख के करीब पहुंची
    बता दें कि देश में एक दिन में 3,23,144 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद मंगलवार को संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,76,36,307 हो गई जबकि राष्ट्रीय स्तर पर ठीक होने की दर गिरकर 82.54  फीसदी हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि संक्रमण से 2,771 और लोगों के दम तोड़ने से मृतक संख्या बढ़कर 1,97,894 हो गई है।

    पिछले कुछ दिनों की तुलना में रोजाना मामलों में आंशिक गिरावट आई हैं। उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 28,82,204 हो गई है जो कुल संक्रमितों का 16.34 फीसदी है। राष्ट्रीय स्तर पर कोविड-19 से ठीक होने की दर गिरकर 82.54  फीसदी हो गई है। यह दर 17 फरवरी को 97.33 फीसदी थी।

    मंत्रालय के अनुसार संक्रमण से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 1,45,56,209 हो गई है जबकि मृत्यु दर गिरकर 1.12 फीसदी हो गई है। भारत में सात अगस्त को कोविड-19 रोगियों की संख्या 20 लाख से अधिक हो गई थी। इसके बाद 23 अगस्त को संक्रमितों की संख्या 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख और 19 दिसंबर को एक करोड़ से अधिक हो गई थी। देश में 19 अप्रैल को संक्रमितों की संख्या 1.50 करोड़ से अधिक हो गई।