ट्रंप के सपने को पेंटागन ने किया चकनाचूर, ठुकराई मिलिट्री स्टाइल फेयरवेल परेड और समर्थकों की भीड़ की मांग

147

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का शानदार विदाई का सपना टूट गया। डोनाल्ड ट्रंप की इच्छा नवनिवाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के शपथग्रहण समारोह से कुछ घंटे पहले समर्थकों की भीड़ के साथ मिलिट्री स्टाइल फेयरवेल परेड की थी, लेकिन ट्रंप के इस सपने को पेंटागन ने चकनाचूर कर दिया। अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट ने ट्रंप के करीबी के हवाले से यह जानकारी दी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप बुधवार को बाइडन के राष्ट्रपति पद की शपथ लेने से पहले व्हाइट हाउस छोड़ देंगे। इस दौरान ट्रंप चाहते थे कि उनकी विदाई शानदार होनी चाहिए, जिसमें समर्थकों की भीड़, मिलिट्री स्टाइल परेड और धूम धड़ाका होना चाहिए। लेकिन हाल ही में वॉशिगंटन डीसी में हुई हिंसा को देखते हुए पेंटागन ने सशस्त्र बलों वाली विदाई देने से मना कर दिया। अमेरिका के इतिहास में यह पहली बार होगा कि किसी राष्ट्रपति की विदाई में सेना की शामिल नहीं होगी।

अमेरिकी रक्षा क्षेत्र से जुड़े दो वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रपति ट्रंप के लिए सैन्य विदाई की कोई तैयारी नहीं की गई है। ट्रंप ने अपने राष्ट्रपति कार्यकाल में सैन्य परेड की परंपरा को आगे बढ़ाया है। उन्होंने 2019 में अमेरिकी स्वतंत्रा दिवस पर सबसे मंहगी परेड की मेजबानी की थी। ‘सैल्यूट टू अमेरिका’ परेड के लिए लाखों ने भाग लिया था, राजधानी की सड़कों पर सेना के टैंकों को घुमाया गया और नेशनल मॉल के फ्लाईओवर में सैन्य विमानों ने भाग लिया था। वाशिंगटन में स्वतंत्रा दिवस के वार्षिक उत्सव यह सब पहली बार हुआ था। 

हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि ट्रंप चाहते है कि उनकी विदाई व्हाइट हाउस से ज्वाइंट बेस एंड्रयूज या पाम बीच पर हो, जहां सैन्य परेड होनी चाहिए। लेकिन पेंटागन ने साफ मना कर दिया है कि वह ट्रंप के विदाई समारोह में भाग नहीं लेगा। बता दें कि ट्रंप का कार्यकाल अधिकारिक तौर पर 20 जनवरी को बाइडन के शपथग्रहण समारोह से पहले खत्म हो जाएगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here