Ayodhya: उत्तर प्रदेश में नई पयर्टन नीति-2022 हुई लागु – ताज ग्रुप ने अयोध्या में फाइव स्टार होटल के लिए किया आवेदन

267

उत्तर प्रदेश में निजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए नई पयर्टन नीति-2022 लागू कर दी गई है। पयर्टन नीति 2018 को और लचर बनाते हुए संशोधित किया गया है। ऐसे में नई पयर्टन नीति से रामनगरी में निवेश को बढ़ावा मिलने की संभावना है। अयोध्या सर्किट के नाम पर कई योजनाएं लाने की तैयारी है। वहीं, अयोध्या में अब तक 30 होटलों को मंजूरी मिल चुकी है। इसके अलावा ताज समूह ने अयोध्या में फाइव स्टार होटल के लिए आवेदन किया है।

राममंदिर निर्माण की शुरूआत के बाद अयोध्या उत्तर प्रदेश में होटल कारोबारियों की पहली पंसद बनकर उभरा है। अयोध्या के लिए पयर्टकों की बढ़ी रूचि को देखते हुए देश-विदेश के कई बड़े होटल समूह अपने लक्जरी ब्रांड के साथ अयोध्या की ओर रूख कर रहे हैं। बुधवार से नई पयर्टन नीति की भी घोषणा कर दी गई है। क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी आरपी यादव बताते हैं कि नई पयर्टन नीति में पयर्टन सेक्टर में भारी निवेश के लिए निजी क्षेत्र को प्रोत्साहित किए जाने पर जोर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि ताज समूह ने भी फाइव स्टार होटल के लिए आवेदन किया गया है। ताज समूह द्वारा रजिस्ट्रेशन किया गया है लेकिन अभी उन्होंने जमीन का उल्लेख नहीं किया है। इसके अलावा अयोध्या की प्राचीन धरोहरों को भी नए सिरे से सजाने की तैयारी है। इनमें रामनगरी के प्राचीन मंदिरों के फसाड को दुरूस्त करने का काम किया जाएगा। पयर्टन को बढ़ावा देने के लिए अन्य कई योजनाएं लाईं जा रही हैं।