संघ प्रमुख मोहन भागवत ने मुसलमान और हिन्दू के पूर्वजो को बताया एक

415
Mohan-Bhagwat

नागपुर के कार्यक्रम को सबम्बोधित करते हुए आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने दिल खोल कर अपनी और संघ की बात सामने रखी. उन्होंने देश में चल रहे हिन्दू-मुस्लिम के तमाम मुद्दों पर बात की. उन्होंने हाल फिलहाल में में चल रहे मामले जैसे जज्ञानवापी विवाद पर भी अपनी राय को जगजाहिर किया और भूतकाल में जो आरएसएस ने गलती की उस पर भी बात की. विदेश में चल रहे रूस-यूक्रेन युद्ध पर उन्होंने एक नया नजरिया भी दिया.

सबसे पहले बात करते हैं ज्ञानवापी विवाद की

आरएसएस चीफ भगवत ने कहा “मामला जारी है। हम इतिहास नहीं बदल सकते। जिस पर विवाद हो रहा है उसे न आज के हिंदुओं ने बनाया और न ही आज के मुसलमानों ने। यह उस समय हुआ था। इस्लाम हमलावरों के जरिए बाहर से आया था। हमलों में भारत की आजादी चाहने वालों का मनोबल गिराने के लिए देवस्थानों को तोड़ा गया। उन जगहों के मुद्दे उठाए गए हैं जो हिंदुओं की भक्ति से जुड़े हैं। हिंदू मुसलमानों के खिलाफ नहीं सोचते। आज के मुसलमानों के पूर्वज भी हिंदू थे। यह उन्हें हमेशा के लिए आजादी नहीं देने और मनोबल को दबाने के लिए किया गया था। इसलिए हिंदुओं को लगता है कि उन्हें (धार्मिक स्थलों) को बहाल किया जाना चाहिए। ”

भारत का रूख रूस-यूक्रेन युद्ध पर एक दम सही

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा “जो विरोध कर रहे हैं उनका भी कोई नेक इरादा नहीं है। वे यूक्रेन को हथियारों की आपूर्ति कर रहे हैं, यह ऐसा है जब पश्चिमी देश भारत और पाकिस्तान को एक-दूसरे के खिलाफ खड़ा करते थे और अपने गोला-बारूद का परीक्षण करते थे। यहां कुछ ऐसा ही हो रहा है। भारत सच बोल रहा है लेकिन उसे संतुलित रुख अपनाना होगा। सौभाग्य से, इसने वह संतुलित दृष्टिकोण अपनाया है। इसने न तो हमले का समर्थन किया और न ही रूस का विरोध किया। इसने यूक्रेन को युद्ध में मदद नहीं की, लेकिन उन्हें अन्य सभी सहायता प्रदान कर रहा है। वह लगातार रूस से बातचीत के लिए कह रहा है।”