लखनऊ शहर में पेशेंट र‍िकवरी रेट 94.7 पहुंची, कोरोना के 12 नए मरीज मिले, और 16 की मौत

350

कोरोना के 12 नए मरीज पाए गए। यह मरीज इंदिरानगर, गोमतीनगर, चौक,रायबरेली रोड के हैं। वहीं डेंगू का भी प्रकोप बढ़ रहा है। ऐसे में मच्छर रोधी कार्रवाई के साथ-साथ घर-घर लार्वा की जांच शुरू कर दी गईं। शहर में कोरोना से ठीक हो रहे मरीजों की तादाद बढ़ रही है। बुधवार को पेशेंट रि‍कवरी रेट में सुधार दर्ज कि‍या गया। वहीं 277 नए मरीजों में संक्रमण पाया गया, जबकि‍ एक की मौत हो गई।राजधानी में कोरोना वायरस की चेन ब्रेक कर पाना चुनौती बना हुआ है। वहीं रि‍वकरी रेट में सुधार होने से मरीजों को राहत मि‍ली। सीएमओ डॉ. संजय भटनागर के मुताबि‍क जुलाई में शहर में कोरोना पेशेंट की रि‍कवरी रेट 80 के आस-पास थी। वहीं बुधवार को पेशेंट रि‍कवरी रेट 94.7 दर्ज की गई। 24 घंटे में 271 और मरीजों ने वायरस को हराने में कामयाबी हासि‍ल की। वर्तमान में एक्टि‍व केस रेट 3.9 फीसद है। वहीं सैंपल कलेक्शन रेट 15.9 फीसद हो गया है।

बुधवार को शहर में इलेक्ट्रॉन‍ि‍क दुकानों पर स्टाफ की कोरोना जांच की गई। इस दौरान वि‍भिन्न इलाकों में सर्विलान्स एवं कान्टेक्टट्रेसिंग के आधार पर कुल 8175 लोगों के सैम्पल लिए गए हैं। यह जांच के लि‍ए केजीएमयू, पीजीआ व लोहि‍या की लैब भेजे गए हैं। इसके अलावा इंदिरा नगर में 28, अलीगंज में 11, आलमबाग में 20, जानकीपुरम में 14 , गोमती नगर में 27,रायबरेली रोड के 19,चिनहट के 12, चौक के 17, महानगर के 10, तालकटोरा के 11, मड़ियाव के 11 मरीज कोरोना की चपेट में मि‍ले। शेष मरीज वि‍भि‍न्न इलाकों के रहे। वर्तमान में होम आईसोलेशन में 1841 रोगी हैं।

करीब सात हफ्ते बाद बुधवार को प्रदेश में कोरोना से ठीक होने वालों के मुकाबले नए मरीजों की संख्या अधिक रही। 2014 लोग कोरोना से ठीक हुए, जबकि 2,204 नए लोगों तक यह वायरस पहुंच गया। इससे पहले 17 सितंबर से लगातार नए मरीजों की तुलना में ज्यादा रोगी स्वस्थ हो रहे थे। बीते 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 16 और मरीजों की मौत हो गई। प्रदेश में अब तक कोरोना से 7,104 लोगों की जान जा चुकी है। कोरोना की चपेट में अब तक प्रदेश के कुल 4.89 लाख लोग आए हैं, जिसमें 4.59 लाख रोगी स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में एक्टिव केस 22,676 हैं। इसमें से 9,763 रोगी होम आइसोलेशन हैं। बुधवार को प्रदेश में 1.46 लाख लोगों की जांच की गई। अब तक प्रदेश में 1.54 करोड़ लोगों का टेस्ट किया जा चुका है।