IPL 2020, KKR vs KXIP : हार के क्रम को तोड़कर केकेआर के खिलाफ जीतने के इरादे से उतरेगी पंजाब

302

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन में शनिवार को शेख जाएद स्टेडियम में किंग्स इलेवन पंजाब का सामना कोलकाता नाइट राइडर्स से होना है। कोलकाता को जहां अपने पिछले मैच में जीत मिली थी वहीं पंजाब को हार का सामना करना पड़ा था।

चेन्नई के खिलाफ कोलकाता के बल्लेबाज एक बार फिर फेल हुए थे। सलामी जोड़ी में बदलाव जरूर टीम के काम आया था और सुनील नरेन के स्थान पर ओपनिंग करने आए राहुल त्रिपाठी ने 51 गेंदों पर 81 रनों की पारी खेली थी। लेकिन उनके अलावा कोलकाता का कोई और बल्लेबाज चल नहीं सका था। इन-फॉर्म बल्लेबाज शुभमन गिल भी सस्ते में आउट हो गए थे।

यह भी पढ़ें- DC vs RR : इस तरह मार्कस स्टोयनिस की बड़ी गलती से रन आउट हुए रिषभ पंत, देखें Video

त्रिपाठी ने ही टीम को संभाला था और 160 के पार ले गए थे। नरेन को ओपनिंग न भेज चौथे नंबर पर भेजा गया था। इससे इयोन मोर्गन, आंद्रे रसेल और नीचे आए थे। कोलकाता को अपनी बल्लेबाजी को लेकर गहन चिंतन की जरूरत है। मोर्गन और रसेल ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्हें जितना समय बल्लेबाजी के लिए मिलेगा टीम को उतना फायदा होगा।

अभी तक हालांकि ऐसा बहुत कम देखने को मिला है इसलिए टीम प्रबंधन को चाहिए होगा कि वो इन दोनों को ऊपर भेजे अन्यथा टीम की जो बल्लेबाजी काबिलियत है वो पूरी तरह से उपयोग में नहीं ले पाएगी।

गेंदबाजी में पिछले मैच में टीम ने कम स्कोर का बचाव कर लिया था। एक समय टीम मैच हारती दिख रही थी लेकिन स्पिनर नरेन और वरुण चक्रवर्ती ने टीम की वापसी कराते हुए उसे मैच जिता दिया था।

शिवम मावी और कमलेश नागरोकटी, पैट कमिंस के साथ मिलकर पंजाब के कमजोर बल्लेबाजी को जल्दी निबटाने का दम रखते हैं।

कोलकाता को चाहिए तो सिर्फ लोकेश राहुल और मयंक अग्रवाल के विकेट। इन दोनों के जाने के बाद पंजाब की बल्लेबाजी असहाय हो जाती है जिसमें कोई ऐसा बल्लेबाज नहीं दिखता जो अंत तक खड़े होकर टीम की नैया पार लगा सके।

सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ खेले गए पिछले मैच में निकोलस पूरन का बल्ला चला था। उन्होंने 77 रनों की पारी खेल टीम की जीत की उम्मीदें बनाए रखी थीं लेकिन वो मंजिल तक नहीं पहुंचा पाए थे।

पूरन भी कोलकाता के लिए खतरा है लेकिन निरंतरता न होना पूरन की कमजोरी है। वहीं ग्लैन मैक्सवेल का बल्ला कुंद ही है। मैक्सवेल हालांकि जिस तरह के बल्लेबाज हैं उसे देखते हुए वो कभी भी बरस सकते हैं और अगर वो बरसते हैं तो कोलकाता के लिए मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी।

गेंदबाजी में पंजाब का आक्रमण मोहम्मद शमी के ऊपर है। शेल्डन कॉटरेल ज्यादा प्रभावी नहीं रहे हैं लेकिन टीम प्रबंधन उन पर लगातार भरोसा बनाए हुए। इस मैच में हो सकता है कि कॉटरेल की जगह किसी और को मौका मिले। अर्शदीप सिंह ने हैदराबाद के खिलाफ प्रभावित किया था इसलिए उम्मीद है कि वह अपना स्थान बनाए रखेंगे।