एस जयशंकर ने चीन को दिया कड़ा संदेश, कहा- क्षेत्रीय अखंडता का करें सम्मान

    304
    s jaishankar
    s jaishankar

    चीन दक्षिण चीन सागर में अपनी दादागिरी दिखाता रहता है। इसे लेकर भारत ने उसे इशारों-इशारों में कड़ा संदेश दिया है। भारत ने शनिवार को दक्षिण चीन सागर में विश्वास को नष्ट करने वाले कदमों और घटनाओं पर चिंता व्यक्त की। इसके अलावा भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अंतरराष्ट्रीय कानूनों के पालन, क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के सम्मान के महत्व पर जोर दिया।

    विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को 15वीं पूर्वी एशिया शिखर बैठक (ईएएस) को संबोधित किया और इसमें हिंद-प्रशांत क्षेत्र के बारे में बात की। जयशंकर ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए हाल ही में कई देशों की ओर से घोषित नीतियों का हवाला देते हुए कहा कि अगर अंतरराष्ट्रीय सहयोग को लेकर प्रतिबद्धता हो तो विभिन्न दृष्टिकोण का समायोजन रखना कभी चुनौतीपूर्ण नहीं होगा।

    इस डिजिटल शिखर बैठक की अध्यक्षता वियतनाम के प्रधानमंत्री गुयेन जुआन फुक ने बतौर आसियान प्रमुख की। ईएएस के सभी सदस्य देश इसमें शामिल हुए। इस समूह में आसियान के 10 देशों के अलावा भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और रूस शामिल हैं।