इन्फ्रा प्रोजेक्ट्स के लिए अलग से बैंक बनाने की तैयारी, बजट 2021 में हो सकता है ऐलान

141

इस बार के बजट में सरकार बड़े-बड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स को फाइनेंस करने के लिए अलग से एक बैंक बनाने का ऐलान कर सकती है. इस बैंक का नाम नेशनल बैंक फॉर फाइनेंसिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट हो सकता है. इस जानकारी से पता चलता है कि इन इन्फ्रा प्रोजेक्ट्स को फाइनेंस करने वाले नेशनल बैंक में टैक्स फ्री बॉन्ड, इंश्योरेंस और पेंशन फंड के जरिए पूंजी डाली जाएगी. सूत्रों ने बताया कि बजट में इन्फ्रा प्रोजेक्ट के लिए नेशनल बैंक बनाने का ऐलान किया जा सकता है. बजट में इसके लिए 1 लाख करोड़ रुपये की अधिकृत पूंजी का भी प्रावधान संभव है, जबकि 20 हजार करोड़ रुपये का इनिशियल पेड उप कैपिटल हो सकता है.

सूत्रों के मुताबिक, प्रोविडेंट फंड, पेंशन और इंश्योरेंस फंड का एक तय हिस्सा नेशनल बैंक को देना जरूरी हो सकता है. वहीं, टैक्स फ्री बॉन्ड और विदेशों से मिलने वाले फंड के जरिए पूंजी जुटाने की भी तैयारी है. इस नेशनल बैंक को एक एक्ट के जरिए बनाये जाने का प्रस्ताव है. इस बैंक को ज्यादा अधिकार भी दिए जाएंगे.

हालांकि, NBFCs के मुकाबले इस बैंक का पर्याप्त पूंजी की आवश्यकता कम हो सकता है. लेकिन सूत्रों का कहना है कि इस बैंक में RBI से डायरेक्ट क्रेडिट लाइन की सुविधा संभव होगी.

सूत्रों ने बताया कि नेशनल बैंक इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस कंपनी लिमिटेड. की जगह लेगा. साथ ही बजट में नेशनल बैंक फॉर फाइनेंसिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट बिल का भी प्रस्ताव संभव है.

नेशनल बैंक के जरिए बड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स को लंबी अवधि के लिए फाइनेंस किया जाएगा. इन प्रोजेक्ट्स की रिस्ट्रक्चरिंग और फाइनेंशियल क्लोजर की सुविधा भी यही बैंक मुहैया कराएगा. इसके अलावा, बैंक इन प्रोजेक्ट्स को मोनेटाइज करने और समय पर इन्हें पूरा करने के लिए लगातार मॉनिटरिंग भी करेगा. इस बैंक का प्रमुख उद्देश्य नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन को फाइनेंस करना है. सरकार ने अगले 5 साल में इसपर 11.1 लाख करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना बनाई है.