India vs New Zealand 1st Test Day 4 : कानपूर टेस्ट मैच में न्यूजीलैंड पर भारत का दबदबा-जीत से 9 विकेट दूर टीम इंडिया

383
3rd Day Cricket

भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन का खेल समाप्त हो चुका है। दिन के अंत में न्यूजीलैंड ने एक विकेट के नुकसान पर 4 रन बनाए। आखिरी दिन भारत को जीत के लिए 9 विकेट और न्यूजीलैंड को 280 रनों की दरकार होगी। विल यंग के रूप में भारत को एकमात्र विकेट आर अश्विन ने दिलाया। इससे पहले श्रेयस अय्यर और रिद्धिमान साहा के अर्धशतक से भारत ने विषम परिस्थितियों से उबरकर पहले क्रिकेट टेस्ट के चौथे दिन रविवार को यहां दूसरी पारी सात विकेट पर 234 रन पर घोषित करके न्यूजीलैंड को 284 रन का लक्ष्य दिया। न्यूजीलैंड ने लक्ष्य का पीछा करते हुए सलामी बल्लेबाज विल यंग (02) का विकेट गंवाकर एक विकेट पर चार रन बनाए। टीम को अंतिम दिन जीत के लिए 280 रन और बनाने होंगे। दिन का खेल खत्म होने पर सलामी बल्लेबाज टॉम लैथम दो रन बनाकर खेल रहे थे जबकि रात्रि प्रहरी विलियम समरविले ने खाता नहीं खोला है।

पदार्पण टेस्ट की पहली पारी में शतक जड़ने के बाद अय्यर (125 गेंद में 65 रन, आठ चौके, एक छक्का) ने दूसरी पारी में भी बेहद दबाव के बीच अर्धशतक जड़ा और यह उपलब्धि हासिल करने वाले पहले भारतीय बने। उन्होंने रविचंद्रन अश्विन (32) के साथ छठे विकेट के लिए 52 जबकि साहा (नाबाद 61, 126 गेंद, चार चौके,एक छक्का) के साथ सातवें विकेट के लिए 64 रन की साझेदारी की। साहा ने अक्षर पटेल (नाबाद 28) के साथ आठवें विकेट के लिए 67 रन की अटूट साझेदारी भी की। न्यूजीलैंड की ओर से काइल जैमीसन ने 40 जबकि टिम साउथी ने 75 रन देकर तीन-तीन विकेट चटकाए। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में भारतीय सरजमीं पर विदेशी टीम ने कभी इतने बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत दर्ज नहीं की है। रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के नाम है जिसने 1987 में नयी दिल्ली में 276 रन का लक्ष्य हासिल किया था।

न्यूजीलैंड ने पारी के तीसरे ओवर में यंग का विकेट गंवा दिया जिन्हें रविचंद्रन अश्विन (तीन रन पर एक विकेट) ने पगबाधा किया। यंग ने डीआरएस लेने का फैसला किया लेकिन तब तक 15 सेकेंड की समय सीमा खत्म हो चुकी थी और उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा। रीप्ले में दिखा कि अगर वह समय पर डीआरएस लेने का फैसला करते को मैदानी अंपायर को अपना फैसला बदलना पड़ा क्योंकि गेंद स्टंप से नहीं टकरा रही थी। इससे पहले सुबह के सत्र में कार्यवाहक कप्तान अजिंक्य रहाणे (04) और कार्यवाहक उप कप्तान चेतेश्वर पुजारा (22) ने एक बार फिर निराश किया जिससे भारत 51 रन पर पांच विकेट गंवाकर संकट में था। अय्यर ने हालांकि पहले अश्विन और फिर साहा के साथ अर्धशतकीय साझेदारी करके भारत को संभाला। उन्होंने आफ स्पिनर समरविले पर छक्का जड़ा लेकिन उनका सर्वश्रेष्ठ शॉट बायें हाथ के स्पिनर एजाज पटेल पर लॉफ्टेड ड्राइव से चौका बटोरना रहा। अय्यर चाय के विश्राम से पहले की साउथी की अंतिम गेंद पर विकेटकीपर टॉम ब्लंडेल को कैच दे बैठे।

साउथी की लेग साइड से बाहर जाती गेंद उनके ग्लव्स को चूमती हुई विकेटकीपर के हाथों में चली गई। पिच पर खेलना असंभव नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि भारतीय स्पिनर स्कोर का बचाव करने में सक्षम हो सकते हैं क्योंकि भले ही गेंद काफी टर्न नहीं हो रही हो लेकिन उम्मीद है कि काफी गेंद नीची रहेंगी। चौथी सुबह भारतीय बल्लेबाजों को साउथी ने अपनी स्विंग से सबसे अधिक परेशान किया। उन्हें साथी तेज गेंदबाज जैमीसन का अच्छा साथ मिला। जैमीसन ने पुजारा की पसलियों को निशाना बनाया। निर्जीव पिच पर जैमीसन की उछाल लेती गेंद पुजारा के ग्लव्स को छूकर ब्लंडेल के दस्तानों में समा गई। मैदानी अंपायर ने उन्हें नॉटआउट दिया लेकिन डीआरएस लेने पर पुजारा को वापस लौटना पड़ा। खराब फॉर्म से जूझ रहे रहाणे एक चौके की मदद से 15 गेंद में चार रन बनाने के बाद एजाज की गेंद पर पगबाधा हो गए।

सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (17) ने पहले घंटे में न्यूजीलैंड के गेंदबाजों का डटकर सामना किया लेकिन साउथी ने आउटस्विंग होती गेंद पर उन्हें दूसरी स्लिप में टॉम लैथम के हाथों कैच करा दिया। साउथी ने इसी ओवर में रविंद्र जडेजा (00) को पगबाधा करके भारत को पांचवां झटका दिया। अश्विन इसके बाद अय्यर का साथ देने उतरे और उन्होंने साउथी पर सीधा चौका जड़ने के अलावा कुछ आकर्षक शॉट खेलकर टीम पर बने दबाव को कुछ कम किया। दोनों ने भारत का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया लेकिन इसके बाद अश्विन जैमीसन की उछाल लेती गेंद को विकेट पर खेल गए।

साहा सात रन के स्कोर पर भाग्यशाली रहे जब समरविले की गेंद पर मिड विकेट पर हेनरी निकोल्स ने उनका कैच टपकाया और गेंद चार रन के लिए चली गई। साहा ने अगली गेंद पर भारतीय पारी का पहला छक्का जड़ा। अय्यर ने भी इसके बाद हाथ खोलते हुए एजाज पर छक्का मारा। उन्होंने एजाज की गेंद पर एक रन के साथ 109 गेंद में अर्धशतक पूरा किया।

अय्यर ने बायें हाथ के स्पिनर एजाज पर दो चौके मारने के बाद साउथी पर भी चौका जड़ा लेकिन अगली गेंद पर विकेट के पीछे कैच दे बैठे। इस बीच समरविले की ही गेंद पर साहा को दूसरा जीवनदान भी मिला। चाय के बाद साहा और अक्षर पटेल ने टीम का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया। साहा ने समरविले की गेंद पर दो रन के साथ 115 गेंद में छठा अर्धशतक पूरा किया।