LOC पर बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान! भारत की तरफ भेजा ड्रोन, बीएसएफ ने 5 राउंड फायर कर साजिश को किया नाकाम, सर्च ऑपरेशन जारी

    303
    UAE drone attack
    UAE drone attack

    पंजाब के गुरदासपुर में भारत-पाक सीमा (India-Pakistan Border) पर पाकिस्तान की तरफ से भारत में ड्रोन भेजने की कोशिश को बीएसएफ (BSF) ने नाकाम कर दिया है. देर रात गुरदासपुर के कसोव्वाल बॉर्डर आउट पोस्ट पर पाकिस्तानी ड्रोन देखा गया था. जिसके बाद मौके पर मौजूद बीएसएफ के जवानों और एक महिला जवान ने ड्रोन पर 5 राउंड फायर किए. जिसके बाद ड्रोन पाकिस्तान की सीमा में वापिस लौट गया. इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी है.

    मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शनिवार को भी बीएसएफ ने बताया कि उसने पंजाब के फिरोजपुर इलाके में सीमा पार से आए ड्रोन को मार गिराया. एक ट्वीट में बीएसएफ ने बताया, ‘शुक्रवार रात 11 बजकर 10 मिनट पर फिरोजपुर सेक्टर (Firozpur Sector) में वान सीमा चौकी के पास चीन निर्मित ड्रोन का पता लगते ही उसे मार गिराया गया.’ उन्होंने कहा, काले रंग की उड़ने वाली वस्तु को अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगभग 300 मीटर और सीमा बाड़ से 150 मीटर की दूरी पर शूट किया गया था.

    हथियारों की तस्करी कर रहे आतंकी
    पुलिस जांच से संकेत मिलता है कि पाकिस्तान स्थित कई आतंकवादी समूह भारत में हथियारों की तस्करी में लिप्त हैं. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि हाल की बरामदगी से पता चला है कि ये संगठन ड्रोन के जरिए विभिन्न प्रकार के आतंकवादी और संचार हार्डवेयर पहुंचाने की क्षमता हासिल करने में कामयाब होने की कोशिश कर रहे हैं. राज्य सरकार ने भारत-पाक सीमा (Indo-Pak Border) से बड़े आकार के ड्रोन की आवाजाही पर चिंता व्यक्त की है.

    सुरक्षा के लिए खतरा हैं ड्रोन
    ड्रोन का इस तरह से भारत की तरफ आना सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा है. पंजाब पाकिस्तान के साथ 553 किलोमीटर लंबी कांटेदार तार वाली अंतरराष्ट्रीय सीमा साझा करता है, जो लगभग 135 बीएसएफ (BSF on Borders) बटालियनों की निगरानी में है. ड्रग नेटवर्क अफगानिस्तान-पाकिस्तान-भारत मार्ग पर भी काम करता है. जिससे भारत को खतरा बना रहता है. यही वजह है कि पाकिस्तान की किसी भी साजिश को वक्त रहते नाकाम कर दिया जाता है. इसके अलावा कई ड्रोन ऐसे भी होते हैं, जिनसे हथियार गिराकर हमला किया जा सकता है. इसलिए सीमा पर उड़ने वाली वस्तुओं की बेहद सावधानी से निगरानी का जाती है. ताकि किसी भी तरह के खतरे से निपटा जा सके.