सत्ता गई लेकिन पार्टी बची पाक कोर्ट ने इमरान के पक्ष में क्या बड़ा फैसला दिया?

33
Imran-Khan
Imran-Khan

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को पाकिस्तान कोर्ट से बड़ी राहत मिल गई है चुनाव आयोग द्वारा उन्हें पीटीआई अध्यक्ष के पद से हटाने की कार्यवाही शुरू की गई थी पाक कोर्ट ने उस पर रोक लगा दी है इस तरह सेमरान खान ने पाकिस्तान में अपनी 70 जरूर दवाई लेकिन पार्टी बचाने में कामयाब हो गए पार्टी में उनका कद भी बरकरार रहा अभी तक इस आदेश पर इमरान खान ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है

तोशाखाना मामले में इमरान खान बुरी तरह फंसे

दरअसल तोशाखाना मामले में इमरान खान बुरी तरह फंसे हुए हैं जब उस मामले में कोर्ट ने प्राण के खिलाफ ही फैसला दिया था चुनाव आयोग ने भी उनके खिलाफ एक्शन लेने की तैयारी की पाकिस्तान के आर्टिकल 63 वन पी के तहत इमरान पर आरोप लगा कि उन्होंने गलत बयान दिए और फर्जी दस्तावेज दिखाए लेकिन तब पूर्व पीएम ने तर्क दिया था कि संविधान में यह कहीं नहीं कहा गया कि कोई दोषी किसी पार्टी का नेतृत्व नहीं कर सकता है अब इसी तर्क के साथ इमरान खान ने लाहौर हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी उस याचिका में चुनाव आयोग की कार्रवाई पर रोक की मांग थी इमरान को कोर्ट से राहत मिली है अभी के लिए चुनाव आयोग उन्हें पार्टी अध्यक्ष के पद से नहीं हटा सकता है वैसे अभी याचिका में भी इमरान ने कहा था कि चुनाव आयोग ने अपनी समिति ताकत से बाहर जाकर उनके खिलाफ कार्रवाई करने का फैसला किया जो सही नहीं अब कोर्ट ने भी उन तर्कों को मान लिया है और इमरान खान को यह बड़ी राहत मिली है

फ़िलहाल तोशाखाना मामले की बात करें तो इमरान खान 2018 में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने थे उन्हें अरब देशों की यात्राओं के दौरान वहां के शासकों से महंगे गिफ्ट मिले थे उन्हें कई यूरोपीय देशों के राष्ट्रीय प्रमुख को से भी बेशकीमती गिफ्ट मिले थे जिन्हें इमरान ने तोशाखाना में जमा कर दिया जीने इमरान ने तोशाखाना में जमा करा दिया था लेकिन इमरान खान ने बाद में तोशाखाना से इन्हें सस्ते दामों पर खरीदा और बड़े मुनाफे में बेच दिया इसी पूरी प्रक्रिया कि उनकी सरकार ने बकायदा कानूनी अनुमति दी थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here