सोने की कीमतों में आई भारी गिरावट, 5000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक काम हुआ रेट

246
gold price today
gold price today

कोरोना संकट के बीच निवेशकों ने सोने (Gold) को सबसे सुरक्षित निवेश विकल्‍प माना और जमकर पैसा लगाया. नतीजा ये हुआ कि लॉकडाउन के दौरान गोल्‍ड की कीमत 50,000 रुपये प्रति 10 ग्राम का बैरियर तोड़कर ऊपर की ओर बढ़ती चली गई. इस बीच शेयर बाजारों में भी लोगों ने जमकर पैसा कमाया. जब मुश्किल दौर में भी लोगों को शेयर बाजार में मुनाफा नजर आया तो बड़ी संख्‍या में लोगों ने गोल्‍ड से पैसा वापस निकालना शुरू कर दिया. इसके बाद सोने के भाव धीरे-धीरे नीचे उतरने लगे. इससे सितंबर 2020 में सोने की कीमतों में 5,000 रुपये प्रति 10 ग्राम से ज्‍यादा की गिरावट दर्ज की गई.

अब अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उनकी पत्‍नी मेलानिया ट्रंप की कोरोना वायरस रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद दुनियाभर के शेयर बाजारों में जबरदस्‍त गिरावट होनी शुरू हो गई. अमेरिकी शेयर बाजार के प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स डाओ जोंस फ्यूचर में 500 अंक से ज्यादा की गिरावट आई. साथ ही, 10 साल के ट्रेजरी बॉन्ड्स की यील्ड में भी गिर गई है. वहीं, सोमवार को एशियाई बाजारों में जापान का प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स निक्केई 1 फीसदी से ज्यादा टूट गया. चीन का प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स शंघाई और ऑस्ट्रेलिया का ASX 200 इंडेक्स 2 फीसदी से ज्यादा टूट गए.

भारत में शेयर बाजार 2 अक्‍टूबर को गांधी जयंती होने के कारण बंद रहे. भारतीय शेयर बाजारों में अब शनिवार और रविवार की छुट्टी के बाद 5 ओक्टुबर यानी सोमवार को कारोबार शुरू होगा. एशिया समेत दुनियाभर के शेयर बाजारों की स्थिति को देखते हुए माना जा रहा है कि सोमवार को भारतीय पूंजी बाजार भी गिरकर खुल सकते हैं. ऐसे में लोगों के शेयर बाजार के बजाय सोने में निवेश के लिए रुख करने की उम्‍मीद ज्‍यादा नजर आ रही है. ऐसी उम्‍मीदों के बीच अगले 48 घंटे में सोने की कीमतों को लेकर समीकरण बदलने के आसार नजर आ रहे हैं. माना जा रहा है कि सोने के भाव बहुत तेजी से चढ़ सकते हैं.

सितंबर के पहले दिन सोने के भाव 52,638 रुपये प्रति 10 ग्राम थे, जबकि आखिरी दिन कीमती पीली धातु की कीमत 51,372 रुपये रहा. सोना 1 अक्‍टूबर को 51,389 रुपये प्रति 10 ग्राम रहा. अगस्‍त 2020 में सोने का रिकॉर्ड हाई 56,000 रुपये प्रति 10 ग्राम से भी ऊपर चल रहा था. वहीं, अक्‍टूबर के भीतर सोने की कीमतों में 5,000 रुपये से ज्‍यादा की कमी आ चुकी है. एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि सोने की कीमतें बहुत ऊपर जाने और शेयर बाजारों में अच्‍छा माहौल होने के चलते लोगों ने गोल्‍ड से पैसा निकालकर शेयर्स में लगाया. इससे गोल्‍ड की कीमतें गिरनी शुरू हो गईं. एएनजेड की रिपोर्ट के मुताबिक, सोने की कीमतों में गिरावट के पीछे बड़ा कारण डॉलर में मजबूती भी था. हालांकि, ट्रंप के संक्रमित होने के बाद शेयर बाजारों में गिरावट का दौर शुरू हो गया है तो लोग सुरक्षित निवेश विकल्‍प के तौर पर गोल्‍ड का रुख कर सकते हैं. ऐसे में सोने के भाव में उछाल आना तय है.