आज सपाट लेवल पर रहे सोने के वायदा भाव, वहीं चांदी हुई 0.16 फीसदी सस्ती, जानिए आज के नए रेट

226

मिश्रित वैश्विक संकेतों के बीच आज घरेलू बाजार में एमसीएक्स पर अप्रैल डिलीवरी के लिए सोना वायदा 44,897 रुपये प्रति 10 ग्राम पर सपाट रहा, जबकि चांदी वायदा 0.16 फीसदी नीचे 65140 रुपये प्रति किलोग्राम के नीचे रही। पिछले सत्र में सोने और चांदी में 0.45 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई थी। अमेरिकी बांड यील्ड में गिरावट और कोरोना वायरस मामलों में आई तेजी से कीमत प्रभावित हुई। 

वैश्विक बाजारों में मिश्रित संकेतों के बीच सोने की दरें आज सपाट रहीं। हाजिर सोना 1,734.81 डॉलर प्रति औंस पर स्थिर रहा। अन्य कीमती धातुओं में चांदी आज बढ़कर 25.10 डॉलर हो गई, जबकि प्लैटिनम 0.2 फीसदी बढ़कर 1,169.96 डॉलर पर बंद हुआ। यूरोप की तीसरी कोविड-19 लहर और संभावित अमेरिकी कर में तेजी की चिंताओं से अमेरिकी डॉलर छह अन्य मुद्राओं की एक टोकरी के मुकाबले आज मजबूत रहा।

दुनिया की सबसे बड़ी गोल्ड समर्थित एक्सचेंज ट्रेडेड फंड या गोल्ड ईटीएफ, एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट की होल्डिंग्स मंगलवार के 1,045.36 टन के मुकाबले बुधवार को 0.2 फीसदी गिरकर 1,043.03 टन हो गई। स्वर्ण ईटीएफ सोने की कीमत पर आधारित होते हैं और उसके दाम में आने वाली घट-बढ़ पर ही इसका दाम भी घटता बढ़ता है। मालूम हो कि ईटीएफ का प्रवाह सोने में कमजोर निवेशक रुचि को दर्शाता है। एक मजबूत डॉलर अन्य मुद्राओं के धारकों के लिए सोने को अधिक महंगा बनाता है।

साल 2020 में सुरक्षित निवेश के तौर पर स्वर्ण आधारित एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) में निवेशकों का आकर्षण बढ़ा। इससे गोल्ड ईटीएफ में 6,657 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश हुआ। जबकि साल 2019 में स्वर्ण ईटीएफ में सिर्फ 16 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश हुआ था। हालांकि, 2019 में लगातार छह साल की शुद्ध निकासी के बाद इसमें शुद्ध खरीदारी हुई थी। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया के आंकड़ों के अनुसार, दिसंबर 2020 के अंत तक स्वर्ण कोषों के प्रबंधनाधीन कुल संपत्ति साल भर पहले के 5,768 करोड़ रुपये की तुलना में दो गुना से अधिक बढ़कर 14,174 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। 2020 में सोना निवेशकों के लिए सुरक्षित निवेश तथा सबसे बेहतर प्रदर्शन करने वाले साधनों में से एक बनकर उभरा।