विधवा महिलाओं ने ‘भाई मोदी’ के लिए भेजी 501 राखियां और फेस मास्क

106
FILE PHOTO

कोरोना संकट के कारण वृंदावन में रहने वाली विधवा महिलाएं इस साल रक्षाबंधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राखी नहीं बांध पाएंगी. गुरुवार को एक NGO ने बताया कि इन महिलाओं ने पीएम मोदी को हाथों से बनी 501 राखियां और बड़ी संख्या में मास्क भेजे हैं. इन खास तरह की राखियों पर पीएम मोदी की तस्वीरें बनी हैं, जबकि मास्क पर वृंदावन की तस्वीरों के साथ ‘आत्मनिर्भर’ और ‘सुरक्षित रहें’ जैसे संदेश लिखे हुए हैं. पिछले साल तक यह विधवा महिलाएं पीएम मोदी को राखी बांधने दिल्ली स्थित उनके निवास पर आती रहीं थी. एनजीओ सुलभ ने बताया कि इस साल कोरोना के प्रकोप तय किया गया है कि राखी बांधने जाने के बजाय इसे प्रधानमंत्री को भेजा जाएगा. यह राखियां प्रधानमंत्री तक शुक्रवार को पहुंच जाएंगी. बता दें कि 3 अगस्त को रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाएगा.

75 साल की छबी दासी ने पिछले साल पीएम मोदी को खुद राखी बांधी थी. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों से कोरोना की वजह से हम आश्रम से बाहर नहीं जा पा रहे हैं. इस बात से थोड़ी निराशा जरूर हुई थी लेकिन पिछले कुछ हफ्तों से हम प्रधानमंत्री के लिए राखियां और मास्क बना रहे हैं जिससे हमें खुशी मिली. उन्होंने कहा कि मैंने खुद अपने हाथों से पीएम मोदी के लिए मास्क बनाए हैं, जिन पर उनकी तस्वीरों के साथ ‘आत्मनिर्भर’ और ‘सुरक्षित रहें’ जैसे संदेश लिखे हुए हैं.

पीएम मोदी के लिए यह राखियां वृंदावन के ‘मां शारदा’ और ‘मीरा सागरभजिनी’ आश्रमों से विधवाओं के समूह द्वारा भेजी गई हैं. पिछले साल तक हजारों महिलाओं की तरफ से 4 से 5 महिलाएं प्रधानमंत्री आवास पर राखियां बांधने और मिठाई खिलाने पहुंचती थीं लेकिन इस साल कोरोना की वजह से इस रिवाज को रोक दिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here