बारिश से कई राज्यों में तबाही, दिल्ली के तापमान में आई गिरावट, मौसम विभाग का अलर्ट जारी

86

दिल्ली-NCR में रविवार को हुई बारिश के बाद मौसम का मिजाज बदल गया है. यहां तापमान में गिरावट आई है. मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली और आस पास के इलाकों में बुधवार को भी मध्यम बारिश हो सकती है. मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया, ‘मानसून उत्तर की तरफ बढ़ेगा और रविवार से बुधवार तक दिल्ली-एनसीआर के आसपास रहेगा.’

श्रीवास्तव ने कहा, ‘इस दौरान अरब सागर से दक्षिण-पश्चिम की तरफ हवाएं चलेंगी और बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवाएं हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर, पश्चिमी उत्तरप्रदेश के इलाकों में पहुंचेंगी. इसके परिणामस्वरूप एक या दो बार भारी बारिश के बाद दिल्ली में मध्यम बारिश होगी.’

पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, हरियाणा, उत्तर पंजाब, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश की संभावना जताई गई है. विभाग ने कहा कि पश्चिमी राजस्थान को छोड़कर उत्तर-पश्चिम भारत में अच्छी-खासी बारिश होने की संभावना है.

राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में रविवार को बारिश होने से पारा कुछ नीचे गिरा. भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक आईजीआई हवाई अड्डे, द्वारका, सफदरजंग, और बहादुरगढ़ सहित कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई. सफदरजंग वेधशाला के अनुसार, एक मिमी बारिश हुई है, रिज और लोधी रोड ने क्रमश: 7 और 1.6 मिमी वर्षा दर्ज की है. मौसम विभाग ने बताया क बारिश से तापमान गिर कर 35 डिग्री सेल्सियस हो गया है.

केरल में मौसम तेजी से मौत और मातम का कहर बरपा रहा है. इडुक्की में भूसख्लन से लेकर राज्य के कई जिलों में बाढ़ और बारिश से हुई तबाही ने हजारों लोगों की जिंदगी को खतरे में डाल रखा है. हालात ऐसे हैं कि शहर-कस्बे और गांव में बाढ़ का पानी घुसता जा रहा है. आने वाले कुछ दिन राज्य के लिए मुसीबत से भरे रह सकते हैं.

केरल के इडुक्की में भूस्खलन से मौत का सायरन गूंज रहा है, यहां मरने वालों का आंकड़ा 43 तक जा पहुंचा है. मौसम विभाग ने केरल में आने वाले वक्त में भारी बारिश का अंदेशा जताया है. यहां कासरगोड, वायनाड, कोझिकोड, मल्लपुरम जैसे इलाकों को लेकर भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है. अगले 24 घंटे मे भारी से भारी बारिश को लेकर सरकार की तैयारियां जोरों पर हैं.

भारी बारिश सबसे ज्यादा पहाड़ी इलाकों पर कहर बरपा रही है. उत्तराखंड में मूसलाधार बारिस के बाद कालाढूंगी का मैथीसाह नाला उफान पर है, यहां पानी पुल के ऊपर से बह रहा है. यहां दो स्कूटी सवार ने इसे पार करने का जोखिम उठाया और पानी की धार में बह गए. गनीमत रही कि कुछ दूर बाद उन्हें लोगों ने बचा लिया.

उत्तराखंड के रामनगर में भी आसमान से बरसी आफत में बरसाती नाला उफान पर आ गया. नाले में आई बाढ़ से रामनगर-रानीखेत नेशनल हाईवे को भारी नुकसान पहुंचा है. इसकी वजह से ट्रैफिक जाम लग गया और लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी.

कश्मीर के गांदरबल में बादल फटने के बाद तबाही मच गई. कई घर पहाड़ों से सैलाब में बहकर आए पत्थरों की भेंट चढ़ गए तो त्राल के ब्रानपत्री में बादल फटने से 1 की मौत हो गई जबकि 4 लोग घायल हो गए. इधर, जम्मू में रावी नदी का रौद्ररूप लोगों में दहशत पैदा कर रहा है. पहाड़ों पर भारी बारिश के उफान पर आई रावी की धार में दो लोग फंस गए. गनीमत रही कि कड़ी मशक्कत के बाद दोनों को बचा लिया गया.

छत्तीसगढ़ के चतरा में 2 घंटे की बारिश में 10 साल का रिकॉर्ड टूट गया. सड़कों पर 4 फीट पानी भर गया और कई कच्चे महान ढह गए. दुकानों और घरों में पानी भर गया जिसे पंप के सहारे निकाला गया.

जबलपुर के कई इलाकों में भारी बारिश से बाढ़ जैसी स्थिति उत्तपन्न हो गई है. यहां मां नर्मदा मंदिर पूरी तरह डूब चुका है.

बिहार के 10 जिले बाढ़ की विभीषिका झेल रहे हैं. गांव-घर डूबने के बाद सड़कपर जिंदगी बसर कर रहे लोगों का धैर्य अब जवाब देने लगा है. छपरा में बाढ़ से बेघर हुए लोगों का एकमात्र सहारा कम्युनिटी किचन भी 4 दिन बाद बंद करने का महिलाओं ने जबरदस्त विरोध किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here