पाकिस्तान के पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक का निधन, कोरोना के कारण इस्लामाबाद के अस्पताल में थे भर्ती

174
rehman malik
rehman malik

पाकिस्तान के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक का बुधवार की सुबह निधन हो गया है. उनकी उम्र 70 साल थी. पीपीपी सीनेटर मलिक इस्लामाबाद के एक अस्पताल में भर्ती थे. उन्हें कोरोना वायरस संक्रमण के कारण स्वास्थ्य से जुड़ी कई समस्याएं थीं. पाकिस्तान की स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रहमान मलिक के प्रवक्ता रियाज अहमद तुरी का कहना है कि वायरस के कारण उनके फेफड़ों में संक्रमण बढ़ गया था.

रहमान मलिक के परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटे हैं. 1 फरवरी को पीपीपी सीनेटर सेहर कामरान ने ट्विटर पर बताया था कि मलिक की हालत बिगड़ गई है जिसके कारण उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है. कराची विश्वविद्यालय से डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त करने वाले मलिक ने साल 2008 से 2013 तक देश के गृह मंत्री के रूप में कार्य किया है. वह पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो (Former Premier Benazir Bhutto) के सबसे करीबी सहयोगियों में से एक थे.

अपने कार्यकाल के दौरान पाकिस्तान सरकार ने उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक सितारा-ए-शुजात (Sitara-e-Shujat) (बहादुरी का सितारा) से सम्मानित किया था. उन्होंने देश के सबसे प्रतिष्ठित सिविल डेक्टोरेशन में से एक निशान-ए-इम्तियाज (Nishan-e-Imtiaz) (उत्कृष्टता का आदेश) भी प्राप्त किया है. उनके निधन की खबर के बाद देशभर में शोक मनाया जा रहा है. राजनेता सोशल मीडिया के जरिए उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

पीएमएल-एन नेता अहसान इकबाल ने ट्विटर पर लिखा, ‘पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक के निधन से गहरा दुख हुआ. अल्लाह उन्हें माफ करे और उनके परिवार को सब्र दे.’ सिंध विधानसभा की एमपीए मुमताज अली चांदियो ने कहा, ‘सीनेटर रहमान मलिक के आकस्मिक निधन के बारे में सुनकर गहरा दुख हुआ. वाकई बहुत बड़ा नुकसान है. अल्लाह उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे. परिवार के प्रति हार्दिक संवेदना.’ पीएमएल-एन नेता हिना बट ने भी रहमान मलिक के निधन पर दुख जताया है.