दिल्ली-राजस्थान में आज 10 महीने बाद खुले 9वीं से 12वीं तक के स्कूल, बच्चों में दिखा उत्साह

389

कोरोना महामारी के कारण बीते 10 माह से बंद दिल्ली के स्कूल आज से दसवीं और बारहवीं के बच्चों के लिए खुल जाएंगे। कुछ स्कूल आज खुलेंगे तो कुछ ने सप्ताह के अंत में खोलने का फैसला किया है। स्कूलों ने दो दिन पहले से ही तैयारी शुरू कर दी है। 

स्कूलों में प्रार्थना सभा (असबेंली) नहीं होगी, न ही कैंटीन खोली जाएगी। इसके अलावा स्कूल प्रशासन परिवहन की भी सुविधा नहीं देगा। विद्यालयों में बच्चों को भेजने के लिए 60 से 80 फीसदी अभिभावकों ने अपनी मंजूरी दे दी है। एक कक्षा को दो ग्रुप में बांटा गया है। इस तरह से 10 से 15 बच्चे ही एक कक्षा में बैठ पाएंगे।

लिटिल फ्लॉवर ग्रुप ऑफ स्कूल के चेयरमैन रोहित दुआ ने बताया कि दसवीं-बारहवीं के लगभग 80 फीसदी बच्चों के अभिभावकों ने स्कूल भेजने की मंजूरी दी है। स्कूल पहुंचने के लिए सुबह 8.30 बजे का समय रखा गया है। 9 बजे से कक्षाओं की शुरुआत होगी और 12.30 बजे खत्म हो जाएगी। 

इससे पहले कक्षाओं व स्कूल को सैनिटाइज कर दिया गया है। एक दिन में 50 फीसदी बच्चे ही स्कूल पहुंचेंगे। सरकार की ओर से दी गई एसओपी का पूरी तरह से ध्यान रखा जाएगा। बच्चों की सुरक्षा व सेहत के साथ कोई लापरवाही नहीं की जाएगी। 

डीएवी स्कूल की प्रिंसिपल वंदना कपूर ने बताया कि स्कूल गुरुवार से खोलेंगे ताकि स्कूल को सरकार की ओर दी गई एसओपी के हिसाब से तैयारी करने का अवसर मिल जाए। स्कूल में शनिवार व रविवार को सफाई व सैनिटाइजेशन का काम पूरा कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि दसवीं व बारहवीं के 95 फीसदी बच्चों के अभिभावकों की ओर से स्कूल भेजने की प्रतिक्रिया मिली है। 

25-30 फीसदी अभिभावकों ने स्कूल नहीं भेजने के लिए कहा है, जबकि 60-65 फीसदी ने स्कूल भेजने की हामी भरी है। अभी हम प्रैक्टिकल की तैयारी कराएंगे। इसके बाद थ्योरी की शुरुआत होगी। प्रार्थना सभा नहीं होगी और कैंटीन नहीं खोली जाएगी। बच्चों को लंच लेकर आना होगा। 

थोड़ा सर्दी कम होने पर बच्चों के लिए योग व प्राणायाम की गतिविधि भी कराएंगे। एक कक्षा में आधे बच्चों को ही बुलाया जाएगा। स्कूल परिसर में बच्चों के लिए सामाजिक दूरी का खास ख्याल रखा जाएगा। स्कूल गेट पर भीड़ ना होने पाए इसका भी ध्यान रखेंगे।