COVID-19 की नई स्ट्रेन को लेकर उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट, ब्रिटेन से लखनऊ आए 50 यात्री इन में से कई के फ़ोन बंद

    227
    India corona cases spike

    कोरोना के नए खतरनाक वैरिएंट को लेकर उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है. उत्तर प्रदेश के स्वास्थ विभाग ने सभी जिलों के सीएमओ को कहा है कि ब्रिटेन से आने वाले लोगों की ट्रेसिंग और ट्रेकिंग का काम तेजी से पूरा कर लिया जाए. राजधानी लखनऊ की अगर हम बात करें तो अब तक 50 लोगों के नामों की लिस्ट एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने स्वास्थ्य विभाग को दी है जो कि पिछले कुछ दिनों में ब्रिटेन से लखनऊ आए हैं. हैरानी वाली बात यह है कि स्वास्थ विभाग ने जब दिए गए नंबरों पर फोन करना शुरू किया तो उसमें से आधे से ज्यादा नंबर बंद आ रहे हैं. ऐसे में ईमेल आईडी का सहारा लेते हुए तमाम लोगों को स्वास्थ्य विभाग एक नोटिस जारी कर रहा है. अगर इस नोटिस का जवाब ब्रिटेन से आये लोग तत्काल नहीं देते हैं तो पुलिस को सूचित करके इनके फोन नंबरों के आधार पर लोकेशन ट्रेस की जाएगी और कॉल हिस्ट्री के आधार पर इनको ढूंढा जाएगा।

    उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ मेजर देवेंद्र सिंह नेगी ने न्यूज़18 से बातचीत में कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग कोरोना वायरस के सेकंड वैरिएंट से लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है. उन्होंने साफ किया कि कोरोना के पहले वेब में जब हमने हालात को सुधार लिया था तो दूसरे वेव से लड़ने के लिए भी हम पूरी तरह से कटिबद्ध और तैयार हैं. डॉ नेगी ने कहा कि आज की तारीख में हम रोजाना डेढ़ लाख से ज्यादा जांचें कर रहे हैं और हमारी जांच अब तक दो करोड़ से ऊपर पहुंच गई है.

    जानकार बता रहे हैं कि कोरोना का सेकंड वैरिएंट जो ब्रिटेन से फैला है पहले वाले की तुलना में 70 गुना तेजी से फैल रहा है. यही नहीं इसका संक्रमण भी बेहद खतरनाक हो रहा है. ऐसे में 2 से 3 हफ्ते के बाद सेकंड वैरिएंट की आफत उत्तर प्रदेश में भी देखने को मिल सकती है. उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना से हर हाल में लड़ने के लिए रणनीति तैयार कर ली है. डॉ नेगी का कहना है कि “लोगों को करोना से बचाव के थंब रूल का पालन अभी भी करना होगा। हालांकि उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने जांच, ट्रेसिंग ,बेड की संख्या और आईसीयू की व्यवस्था पूरी कर रखी है.