CM योगी- रैपिड एंटीजन टेस्ट की संख्या बढ़ाई जाए, रोज करें 1.50 लाख टेस्ट

358

मुख्यमंत्री शुक्रवार को लोक भवन में उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सर्विलांस को बेहतर करने के साथ ही इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की व्यवस्था को सुदृढ़ किया जाए। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग तथा डोर-टू-डोर सर्वे का कार्य भी सघन रूप से संचालित किया जाए। कोविड-19 से बचाव संबंधी प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सभी गतिविधियां शुरू होनी चाहिए। कोविड-19 के संक्रमण के प्रति व्यापक जागरूकता का प्रसार किया ताकि लोग घबराएं नहीं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट की संख्या में वृद्धि की जाए। आरटीपीसीआर मशीन से किए जाने वाले टेस्ट की संख्या भी बढ़ाई जाए। उन्होंने प्रतिदिन 1.50 लाख टेस्ट सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए कहा कि इसके लिए आवश्यक मैनपावर की व्यवस्था की जाए। 

उन्होंने कहा कि गोरखपुर के बाल रोग चिकित्सा संस्थान को शीघ्रता से पूर्ण किया जाए। उन्होंने कहा कि कुछ जिलों से मलेरिया के मामले संज्ञान में आए हैं। इन जिलों में तत्काल मेडिकल टीमें भेजी जाएं और चिकित्सा की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री जयप्रताप सिंह, मुख्य सचिव आरके तिवारी व वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।  

सीएम ने कहा कि सरकारी कार्यालयों में अवकाश पर रहने वाले तथा अस्वस्थ कार्मिकों को छोड़कर कार्यालय अवधि में 50 प्रतिशत कर्मियों की उपस्थिति हर हाल में रहनी चाहिए। उन्होंने सभी अपर मुख्य सचिवों व प्रमुख सचिवों को अपने अधीनस्थ विभागाध्यक्ष कार्यालयों का निरीक्षण करने के निर्देश दिए। कहा कि सुबह 9:30 बजे अनुपस्थित पाए गए अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।