CM योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 की 96.3 फीसद रिकवरी पर जताया संतोष

161
Free Tablets and Smartphones distribution in UP

वैश्विक महामारी कोविड-19 के उत्तर प्रदेश में लगातार बढ़ते रिकवरी रेट पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संतोष व्यक्त किया है। प्रदेश में कोविड-19 की 96.3 फीसद रिकवरी दर पर संतोष व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कोरोना से बचाव व इलाज की व्यवस्थाओं को पूरी तरह चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन संबंधी तैयारियों से जुड़े सभी काम मानकों के अनुरूप ही होने चाहिए। उनमें कतई शिथिलता न बरती जाए।

मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण को लेकर उच्चस्तरीय बैठक में कहा कि कोविड-19 की जांच पूरी क्षमता से चलती रहे। नए स्ट्रेन की जांच के लिए प्रदेश की प्रयोगशालाओं में सभी आवश्यक उपकरणों आदि का प्राथमिकता पर प्रबंध किया जाए।

उन्होंने ने जोर दिया कि वैक्सीन के संबंध में की जा रही व्यवस्थाओं की नियमित निगरानी होनी चाहिए। उन्होंने वैक्सीन के सुरक्षित स्टोरेज, कोल्ड चेन व परिवहन के लिए सभी काम निर्धारित मानकों के अनुरूप करने के निर्देश दिए। साथ ही संक्रमण से बचाव के प्रति जनता को लगातार जागरूक करने को कहा।

योगी आदित्यनाथ ने पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रयोग करने की हिदायत अधिकारियों को दी। ई-संजीवनी एप की जानकारी लोगों तक पहुंचाने को कहा, ताकि लोगों को ऑनलाइन चिकित्सा का परामर्श मिलता रहे।

उत्तर प्रदेश में शनिवार को कोरोना के 728 नए संक्रमित मिले और आठ लोगों की इसके कारण मौत हुई। करीब छह महीने बाद एक दिन में इतने कम रोगियों की मौत हुई और कम नए मरीज मिले। यह स्थिति इससे पहले बीते जून माह में थी। बीते 24 घंटे में स्वस्थ होने वालों की संख्या भी नए रोगियों से अधिक 1190 रही। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में अब तक 5.87 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं, जिसमें 5.65 लाख मरीज ठीक हो चुके हैं। अब तक कुल 8,387 लोगों की मौत हुई है, जबकि रिकवरी रेट 96.30 फीसद और मृत्यु दर 1.42 प्रतिशत है। एक्टिव केस अब 13,316 हैं। शनिवार को 1.29 लाख लोगों की कोरोना जांच की गई। प्रदेश में अब तक कुल 2.42 करोड़ लोगों का कोरोना टेस्ट और 15.09 करोड़ लोगों की मेडिकल स्क्रीनिंग की जा चुकी है। ई-संजीवनी पोर्टल की मदद से अब तक प्रदेश में कुल 3.4 लाख लोग घर बैठे डॉक्टरों से ऑनलाइन परामर्श ले चुके हैं।

प्रदेश में 10 जनवरी से फिर से आरोग्य मेला शुरू होगा। बीते दिनों सरकार की घोषणा के बाद स्वास्थ्य विभाग तैयारियों में जुट गया है। यहां कोरोना प्रोटोकाल को सख्ती से लागू कराया जाएगा। सरकारी अस्पतालों में अब हर रविवार आयोजित होने वाले आरोग्य मेले में आने वालों की गेट पर थर्मल स्कैनिंग की जाएगी। मास्क अनिवार्य रूप से पहनना होगा और सैनिटाइजर की भी व्यवस्था होगी।