सीएम नीतीश कुमार की रैलियों का पीछा कर पोल खोलेगी बीजेपी..

150
modi
modi

नया साल 2023 आने में अब कुछ ही दिन बाकी है अब नए साल में बिहार की सियासत में यात्राओं को लेकर राजनीतिक हलचल बढ़ने के आसार हैं दरअसल बिहार में यात्रा शुरू होने वाली है जिसे लोकसभा चुनाव के ठीक पहले जनता का नब्ज टटोलने की कवायद भी मानी जा रही है बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यात्रा पर निकलने की तैयारी में है सीएम नीतीश कुमार की यात्रा को लेकर विपक्षी पार्टी बीजेपी ने भी बड़ी तैयारी की है बीजेपी ने भी ऐलान कर दिया है कि जहां-जहां नीतीश कुमार जाएंगे 1 हफ्ते के अंदर बीजेपी भी उसी जगह जाकर नीतीश कुमार का पोल खोलेगी इस घोषणा के बाद यात्रा की सियासत गरमा गई है

दरअसल नीतीश कुमार ने जैसे ही या साफ किया कि नए साल युवा जनता के बीच जाएंगे और लोगों से मिल भी ना सिर्फ उनकी समस्याओं को सुनेंगे बल्कि शराबबंदी को लेकर जनता की राय क्या है यह भी जानेंगे तब से सियासत में गर्माहट आ गई है और नीतीश कुमार की यात्रा को लेकर चर्चा शुरू हो गई है माना जा रहा है कि नीतीश कुमार की यात्रा लोकसभा चुनाव के पहले जनता की नब्ज़ को जानने की कार याद जिसे नीति जनता के बीच जाकर खुद देखना और समझना चाह रहे हैं

फिलहाल नीतीश कुमार के यात्रा का मकसद इस बार पूरे तौर पर राजनीतिक माना जा रहा है क्योंकि कई ऐसे मामले हैं जिसे लेकर नीतीश कुमार विरोधी दलों के निशाने पर है चाहे शराबबंदी का मामला हो या क्राइम या फिर विकास का आम लोगों तक नहीं पहुंचने का मामला नीतीश कुमार विपक्ष के निशाने पर है राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह बीज मानते हैं कि मुख्यमंत्री हो या उपमुख्यमंत्री या फिर मंत्री जनता के बीच जाकर जनता की समस्याओं को साझा कर सकता है दफ्तर में बैठकर नहीं