Birthday Special : आसमान की रौनक बढ़ा रहे इस सितारें की एक्टिंग के आज भी हैं लोग क़ायल..

75
birthday special
birthday special

बॉलीवुड में यू तो कई स्टार्स ने अपनी एक्टिंग से लोगो को अपना दीवाना बनाया हैं लेकिन हर स्टार का एक समय पर स्टार्डम कम या यू कहे की खत्म हो जाता हैं पर कुछ ऐसे भी सितारें होते हैं जो कितना भी समय बीत जाये लेकिन उसकी एक्टिंग लोगों को इस कदर अपना दीवाना बनाती हैं की सबके दिलों पर अपना छाप छोड़ जाती हैं अब आप सच्च रहे हो की आज हम इस तरह की क्यों बातें कर रहे हैं जी हाँ बॉलीवुड का ऐसा सितारा जिसने ना केवल अपनी एक्टिंग की छाप बल्कि लोगों के दिलों में इस कदर जगह बनाई की आज वो सितारा भले ही आसमान की रौनक बढ़ा रहा हो लेकिन जब भी उसका नाम आता है तो लोगों की आँखों में पानी भर जाता हैं जी हां हम बात कर रहे हैं फिल्मों में अपनी आँखों से बहुत कुछ कह जाने वाले दिवंगत अभिनेता इरफ़ान खान की आज उनकी बर्थ एनिवर्सरी है 7 जनवरी 1967 को जन्मे इरफान खान की गिनती फिल्म इंडस्ट्री के सबसे मंझे हुए कलाकारों में होती है बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपने दमदार किरदार अभिनय का परचम लहराने वाले इरफान खान आज भले ही दुनिया में नहीं है लेकिन वह हमेशा अपने अभिनय से लोगों के दिलों में जिंदा रहेंगे इरफान खान का नाम आते ही हमें उनके द्वारा निभाए गए किरदार याद आने लगते हैं फिल्म की स्टोरी कैसी भी हो इंसान अपने अभिनय से हर एक किरदार में जान फूंक देता हैं वही इरफान खान की परिवारिक बात करें तो इनका जन्म जयपुर के एक मुस्लिम पठान परिवार में हुआ था आज अगर अभिनेता जिंदा होते तो अपना 56 वां जन्मदिन मना रहे होते तो चलिए जन्मदिन के इस खास मौके पर अभिनेता से जुड़ी कुछ खास बातें जानते हैं

अभिनेता से जुड़ी कुछ खास बातें जानते

इरफान खान का पूरा नाम साहबजादे इरफान अली खान था उनके पिता टायर का व्यापार करते थे इरफान खान का शुरुआती जीवन भले ही संघर्षों से भरा रहा है लेकिन हिंदी सिनेमा में जो उन्होंने अपनी अदायगी का कमाल दिखाया है उसे फैंस को भूलने में जन्म लग जाएंगे हालांकि यह बहुत कम लोग जानते हैं कि इरफान ने सिनेमा का रास्ता काफी बाद में चुना है उनकी सबसे पहली मोहब्बत क्रिकेट थी लेकिन अफसोस कि वह मोहब्बत अधूरी रह गई जी हां इरफ़ान को क्रिकेट का बेहद शौक था वह क्रिकेट की दुनिया में ऑलराउंडर रहे हैं सिर्फ इतना ही नहीं जयपुर की टीम में युवा खिलाड़ी थे इसी की बदौलत युवावस्था में उनको बीसीसीआई के घरेलू टूर्नामेंट सीके नायडू ट्रॉफी के लिए भी चुन लिया गया था लेकिन ₹600 ना होने के कारण वे इस टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं ले पाए थे जी हाँ इरफान खान को एक शहर से दूसरे शहर इस क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए जाना था लेकिन उस समय उनके पास पैसे नहीं थे इस बात का खुलासा इरफान ने साल 2014 में दिए एक इंटरव्यू में किया था उन्होंने बताया था कि वह ₹600 के लिए किसी से नहीं पूछ सकता था क्योंकि जब नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के लिए ₹300 की जरूरत थी उसे जुटाना उनके लिए कठिन था आखिरकार उनकी बहन ने उनके लिए पैसे जुटाए थे इसी वजह से उन्होंने क्रिकेट को अलविदा कह दिया था

कोलन इन्फेक्शन ने उनकी जान ले ली

फिलहाल इरफान खान ने हिंदी सिनेमा को एक से बढ़कर एक फिल्में दी है उन्होंने अंग्रेजी मीडियम, हिंदी मीडियम, द लंचबॉक्स, पीकू, बिल्लू बारबर, करीब करीब सिंगल, मदारी मकबूल, हैदर, रोग हासिल, थैंक्यू, साहब बीवी और गैंगेस्टर, सलाम मुंबई जैसी बेहतरीन फिल्मों में भी काम किया है इरफान खान को पहले कैंसर हुआ और जब वह कैंसर से ठीक होकर घर लौटे तो 29 अप्रैल 2020 को कोलन इन्फेक्शन ने उनकी जान ले ली इरफान खान का जाना उनके चाहने वाले को आज भी खलता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here