बिहार ने फ्री कोरोना वैक्सीन को ले कर दिखाई राह, तो गरमाई सियायत, जाने क्या है पूरा मामला

144

बिहार में 17वीं विधानसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी ने घोषणा की थी कि प्रदेश में हर व्यक्ति को फ्री कोरोना वैक्सीन मिलेगी। सियासत के लिए यह विवादित विषय था। विपक्ष ने पूरे प्रकरण में चुनाव आयोग का दरवाजा भी खटखटाया था। हालांकि, बिहार से शुरू फ्री वैस्‍कीन की बात अब पूरे देश में पहुंच चुकी है। बिहार में पहले चरण में 4.39 लाख स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को फ्री वैक्‍सीन दी जाएगी। राज्‍य सरकार ने पहले ही फ्री वैक्‍सीनेशन का फैसला कर लिया है।

बिहार विधानसभा चुनाव के अपने घोषणा पत्र में जब बीजेपी ने फ्री कोरोना वैक्‍सीन देने का वादा किया तो राष्‍ट्रीय जनता दल, कांग्रेस और वामदलों के नेताओं ने इसका कड़ा विरोध किया था। इंटरनेट मीडिया में भी तूफान उठा था। जनसरोकार की इस घोषणा काे विवाद का विषय बना दिया गया था। अब वैक्सीन आ गई है। हर देशवासी को फ्री मिलने का एलान हुआ तो बिहार चुनाव के दौरान शुरू हुई सियासी खींचतान नए सिरे से परवान चढ़ा।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सदस्य अखिलेश सिंह का तर्क है कि राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन खासकर बीजेपी किसी भी योजना में जनहित के बजाए अपना स्वार्थ और कारोबारियों का हित देखती है।

विपक्ष के हमले पर बिहार बीजेपी के नेताओं ने पलटवार किया। बीजेपी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री नंदकिशोर यादव ने चुटकी ली। कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए सरकार ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम में मिसाल कायम की है। अगर देश में बीजेपी की सरकार नहीं होती, तो यह महामारी देश में कितनी तबाही मचाती, यह सोच कर डर लगता है। बकौल नंद किशोर यादव, विपक्षी दलों को सोचना चाहिए की कोरोना संकट के बीच उन्होंने अपने दायित्वों का निर्वहन किस तरह किया। सरकार के जनहित कार्यों पर सवाल उठाने वाले विपक्षी दलों को शर्म आनी चाहिए। जनसरोकार के कामों में अड़ंगा लगाने की वजह से लगातार जनता सबक सीखा रही है।

बिहार में फ्री वैक्सीनेशन अभियान के पहले चरण में सबसे ज्यादा जोखिम वाले लोगों को वैक्सीन दिया जाएगा। इसके तहत 50 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोग, गंभीर स्वास्थ्य समस्या से पीडि़त लोग, स्वास्थ्यकर्मी और कोरोना वॉरियर शामिल होंगे। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि वैक्सीनेशन अभियान शुरू होते ही सबसे पहले सर्वोच्च प्राथमिकता वाले लाभार्थियों को मुफ्त वैक्सीन दी जाएगी।