सदाबहार अभिनेत्री आशा पारेख को दादा साहब फाल्के पुरस्कार, केंदीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने दी जानकारी

1130
asha parekh dada saheb phalke award
asha parekh dada saheb phalke award

हिंदी फिल्म जगत की सदाबहार अभिनेत्री आशा पारेख को भारत सरकार देश का सिनेमा से जुड़ा सर्वोच्च पुरस्कार देने जा रही है. इसकी सूचना केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने मंगलवार को दी. यह पुरुस्कार उन्हें 30वे नेशनल फिल्म अवार्ड्स में दिया जाएगा जो कि 30 सितम्बर को आयोजित होगा.

2 अक्टूबर 1942 को जन्मी अभिनेत्री आशा पारेख ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत चाइल्ड आर्टिस्ट के रूप में बेबी आशा पारेख नाम से की थी। मशहूर फिल्म डायरेक्टर बिमल रॉय ने उन्हें एक शो में डांस करते देखा और उन्हें दस साल की उम्र में माँ फिल्म में लिया जो 1952 को रिलीज़ हुई थी और फिर उन्हें बाप बेटी में भी काम दिया। इस फिल्म की विफलता ने उन्हें निराश किया और भले ही उन्होंने कुछ और बाल भूमिकाएं कीं।

16 साल की आयु में उन्होंने फिर से एक्टिंग करने की कोशिश की और एक अभिनेत्री के रूप में अपनी शुरुआत की। लेकिन उन्हें एक्ट्रेस अमीता के लिये विजय भट्ट की गूँज उठी शहनाई से रिजेक्ट कर दिया गया, क्योंकि फिल्म प्रोडूसर ने दावा किया था कि वह मशहूर एक्ट्रेस बनने के काबिल नहीं थी। ठीक 8 दिन बाद, फिल्म मेकर सुबोध मुखर्जी और राइटर-डायरेक्टर ने नासिर हुसैन ने उन्हें शम्मी कपूर के विपरीत दिल देके देखो में एक्ट्रेस के रूप में लिया। इसने उन्हें एक बड़ा स्टार बना दिया।