अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और कमला हैरिस के बीच आई दरार, उप राष्ट्रपति की हो सकती है छुट्टी- रिपोर्ट

226

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस के बीच तकरार की खबरें आ रही हैं. हैरिस के स्टाफ का कहना है कि उन्हें साइडलाइन किया जा रहा है, जबकि राष्ट्रपति की टीम का कहना है कि हैरिस अमेरिका की जनता के साथ खेल रही हैं. इसके अलावा बीते महीनों हैरिस की अप्रूवल रेटिंग भी बाइडेन (Biden Approval Rating) के मुकाबले ज्यादा गिरी है. ऐसे में माना जा रहा है कि हैरिस को उपराष्ट्रपति के पद से हटाया जा सकता है. इसके लिए बाइडेन बैकडोर का रास्ता अपनाएंगे और हैरिस को सुप्रीम कोर्ट में नियुक्त करने को लेकर विचार कर रहे हैं.

डेलीमेल की रिपोर्ट के अनुसार, व्हाइट हाउस के अंदरूनी सूत्रों ने सीएनएन को बताया है कि कमला हैरिस और उनके सहयोगी सीमा संकट जैसे ‘वो विन’ मुद्दे सौंपे जाने के कारण राष्ट्रपति से नाराज हैं. ये ऐसे संवेदनशील मुद्दे हैं, जिनसे निपटना तलवार की धार पर चलने जैसा है. वहीं बाइडेन के कर्मचारी निजी तौर पर हैरिस से कुछ विवादों को लेकर नाराज हैं (Biden Harris Rift News). जैसे पत्रकार लेस्टर होल्ट द्वारा सीमा पर जाने के बारे में पूछे जाने पर उनका ‘अजीब’ तरह से हंसना. वह चुनावी आंकड़ों में गिरावट के लिए हैरिस के सीमा संकट में विफलता को दोषी ठहरा रहे हैं.

व्हाइट हाउस ने क्या कहा है?
एबीसी न्यूज/ वाशिंगटन पोस्ट के सर्वे में पता चला है कि बाइडेन को 53 फीसदी अस्वीकृति और 41 फीसदी स्वीकृति मिली है, जो अप्रैल से 11 पॉइंट नीचे है. हालांकि सार्वजनिक तौर पर व्हाइट का कहना है कि बाइडेन और हैरिस के बीच कोई तकरार नहीं है. रविवार रात व्हाइट हाउस (White House) की प्रेस सचिव जेन साकी (Jen Psaki) ने सीएनएन की रिपोर्ट का जवाब देते हुए ट्वीट किया. उन्होंने कहा, ‘हैरिस एक ‘महत्वपूर्ण पार्टनर और एक साहसी नेता हैं, जिन्होंने देश के सामने मौजूद महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना किया है. जिनमें मतदान के अधिकार और प्रवासन के मूल कारणों को संबोधित करने से लेकर ब्रॉडबैंड का विस्तार करना तक शामिल है.’

सही पोर्टफोलियो नहीं दिया गया
निजी तौर पर हैरिस के सहयोगी मानते हैं कि उन्हें विफल साबित करने के लिए एक ऐसा पोर्टफोलियो (Kamala Harris Portfolio) सौंप दिया गया, जो उपराष्ट्रपति के कार्यालय को संभालने वाली हैरिस की स्थिति के अनुरूप नहीं है. कमला हैरिस के एक पूर्व उच्च सहयोगी ने सीएनएन को बताया, ‘वह बार-बार उन्हें गलत परिस्थितियों में सीमा विवाद (US Border Issues) सुलझाने के लिए भेज रहे हैं.’ हैरिस और उनके सहयोगियों के लिए, यह उनके कार्यकाल में एक साल से भी कम समय में करो या मरो जैसी स्थिति बन गई है. शीर्ष सहयोगियों को डर है कि वह राष्ट्रपति के प्रति अपनी वफादारी की कीमत चुकाएंगे. इसके साथ ही हैरिस ने कथित तौर पर शिकायत की थी कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों के वापसी वाले मामले में उन्हें ज्यादा तवज्जो नहीं दी गई है.