कोरोना की मार : एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को 2,948.97 करोड़ रुपए का घाटा, पैसेंजर ट्रैफिक में भी गिरावट

173

कोरोना की दूसरी लहर ने देश में तबाही मचा दी. एक तरफ देश ने अपने लोगों को खोया तो दूसरी तरफ अर्थव्यवस्था पर भी इसका गहरा असर पड़ा. कोरोना की दूसरी लहर के दौरान वित्तीय वर्ष 21 में एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) को 2,948.97 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है. इस दौरान कोरोना चरम पर था और कोरोना महामारी की वजह से फ्लाइट्स और यात्रियों के सफर पर रोक थी. एएआई की  तरफ से संचालित 136 एयरपोर्ट्स में से 107 एयरपोर्ट्स को कुल 2,948 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. 

नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री वीके सिंह की तरफ से लोकसभा में जमा किए डाटा के आधार पर ये दावा किया जा रहा है. अगर वित्तीय वर्ष 2019 से इसकी तुलना करें तो उस साल 136 में से 101 एयरपोर्ट्स को कुल 1,668 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था. बता दें कि वित्तीय वर्ष 2019 (FY19) में इनमें से 18 एयरपोर्ट काम नहीं कर रहे थे, जबकि FY20 और FY21 में 19 एयरपोर्ट्स का संचालन बंद था. 

वीके सिंह की ओर से लोकसभा में दर्ज कराए गए डाटा के मुताबिक, पिछले तीन सालों में टीयर-1 और टीयर-2 के एयरपोर्ट्स को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है. टीयर-2 की बात करें तो भोपाल, औरंगाबाद, बेलगाम, चंडीगढ़, देहरादून, दिल्ली (सफदरजंग), दिमापुर, डिब्रूगढ़, गया, हुबली और इम्फाल एयरपोर्ट्स को FY19, FY20 और FY21 में लगातार घाटा हुआ है. 

इसके अलावा कोलकाता, तिरुवनंतपुरम,  वाराणसी, मुंबई, नई दिल्ली, लेह, लखनऊ, जयपुर, रांची, बड़ोदरा, विजयवाड़ा, उदयपुर, सूरत, मदुरई और मैंगलोर को FY21 में नुकसान झेलना पड़ा, जबकि FY20 और FY19 में से एक या दोनों साल थोड़ा मुनाफा भी कमाया. 

देश के सबसे व्यस्त एयरपोर्ट इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा, नई दिल्ली को FY19 में 111.77 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था. वहीं FY20 में 13.15 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था और FY21 में 317.41 करोड़ रुपए का नुकसान  हुआ.  

देश के दूसरे सबसे व्यस्त एयरपोर्ट, छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट को FY19 में 96.1 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था, जबकि FY20 में 2.54 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था और FY21 में 384,81 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ.