बैंक हड़ताल के बाद आज एलआईसी के एंप्लॉयीज रहेंगे स्ट्राइक पर, जानें आखिर क्या है पूरा मामला

470

बैंक कर्मचारियों के बाद अब एलआईसी कर्मचारी भी आज हड़ताल पर रहेंगे. लाइफ इन्शुरन्स कॉपोरेशन के कर्मचारी विनिवेश का विरोध कर रहे हैं, जिसके चलते हड़ताल करने का ऐलान किया गया है. यह हड़ताल एक दिन की है. बता दें इस सरकारी कंपनी की शुरुआत साल 1956 में हुई थी और इस समय इसमें करीब 114,000 कर्मचारी काम करते हैं. इसके अलावा करीब 29 करोड़ से ज्यादा पॉलिसी होल्डर्स भी हैं.

केंद्र सरकार ने इस साल के बजट में एलआईसी का आईपीओ लाने का ऐलान किया था. इसके अलावा पीएसयू और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस में हिस्सेदारी बेचकर 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का विनिवेश लक्ष्य रखा था, जिसके लिए सरकार ने दो बैंकों और एक सार्वजनिक क्षेत्र की इंश्योरेंस कंपनी के निजीकरण का ऐलान किया था.

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि आईडीबीआई बैंक के अलावा, दो पब्लिक सेक्टर बैक और एक जनरल इंश्योरेंस कंपनी वित्त वर्ष 2021-22 में सरकार की विनिवेश योजना का हिस्सा हैं. विनिवेश के जरिए जुटाई गई रकम से सरकार सोशल और डेवलपमेंट प्रोग्राम को फाइनेंस करेगी.

जानकारों की मानें तो इस समय एलआईसी की वर्तमान वैल्यु करीब 12 लाख करोड़ रुपये के करीब होगी, जिसमें से सरकार 10 फीसदी हिस्सा बेचने का प्लान बना रही है. सरकार विनिवेश के जरिए करीब 1.2 लाख करोड़ रुपये इकट्ठा करेगी. कर्मचारी जिसका विरोध कर रहे हैं. इसके अलावा 74 फीसदी एफडीआई का भी विरोध कर रहे हैं.

केंद्र सरकार पिछले चार सालों में करीब 14 बैंकों का विलय कर चुकी है, जिसके विरोध में यूनाइडेट फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के बैनर तले 9 यूनियों ने 15 मार्च और 16 मार्च को हड़ताल की थी. इस हड़ताल में करीब 10 लाख लोग शामिल हुए थे.