14 दिसंबर से शुरू हो जाएगी बैंक RTGS की सेवा, दिन हो या रात कभी भी कर सकेंगे लेनदेन

1510

देश में आरटीजीएस (रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम) की सुविधा 14 दिसंबर से प्रति दिन चौबीसो घंटे काम करने लगेगी। इसके बाद भारत उन चुनिंदा देशों में शामिल हो जाएगा जहां यह सुविधा दिन रात काम करती है। यह सेवा 13 दिसंबर को रात में साढ़े 12 बजे से अनवरत सुलभ हो जाएगी।

अंतरराष्ट्रीय मानक के हिसाब रात 12 बजे के बाद अगली तारीख शुरू हो जाती है इसलिए माना जाएगा कि भारत में यह प्रणाली 14 दिसंबर से पूरे समय काम करने वाली प्रणाली बनेगी। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अक्टूबर में आरटीजीएस प्रणाली को 24 घंटे काम करने वाली प्रणाली बनाने की घोषणा की थी। इससे पहले आरबीआई एनईएफटी को भी 24 घंटे काम करने वाली प्रणाली बना चुका है। 

आरटीजीएस बड़ी राशि के इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन में काम आने वाली प्रणाली है। जबकि एनईएफटी से दो लाख रुपये तक का ही ऑनलाइन लेनदेन किया जा सकता है। आरटीजीएस की शुरुआत 26 मार्च 2004 को हुई थी। तब सिर्फ चार बैंक ही इससे भुगतान की सुविधा देते थे। वर्तमान में आरटीजीएस से रोजाना 6.35 लाख लेनदेन होते हैं। देश के करीब 237 बैंक इस प्रणाली के माध्यम से 4.17 लाख करोड़ रुपये के लेनदेन को प्रतिदिन पूरा करते हैं। नवंबर में आरटीजीएस से औसत 57.96 लाख रुपये का लेनदेन किया गया जो इसे वास्तव में बड़ी राशि के लेनदेन का एक उपयोगी विकल्प बनाता है।

IMPS बैंकों के ऑनलाइन चैनलों जैसे मोबाइल बैंकिंग, नेट बैंकिंग, एसएमएस के माध्यम से और एटीएम के माध्यम से रियल टाइम पर पैसे हस्तांतरण की सुविधा देते हैं। IMPS प्रणाली में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया सदस्य बैंकों के बीच धन के हस्तांतरण की सुविधा देता है। आप पूरे वर्ष में 24/7 आईएमपीएस प्रणाली का उपयोग करके राशि ट्रांसफर कर सकते हैं। 

NEFT का उपयोग करके आप इलेक्ट्रॉनिक रूप से पैसे भेज सकते हैं। बैंक के मोबाइल ऐप या नेट बैंकिंग सुविधा के माध्यम से किए गए एनईएफटी हस्तांतरण पर कोई शुल्क नहीं लगता है।