11वीं की छात्रा ने लगाई फांसी, स्कूल प्रबंधन पर लगा आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप..

522
suicide
suicide

राजधानी लखनऊ में आरएलबी में 11वीं क्लास की छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। छात्रा के सुसाइड किए जाने के बाद पिता ने स्कूल के प्रिंसिपल व शिक्षक के खिलाफ बेटी पर नकल करने का झूठा आरोप लगा उसे आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस का कहना है कि छात्रा के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

11वीं की छात्रा थी ईशा यादव:-

दरअसल जानकारी के मुताबिक, रेडियो पुलिस कॉलोनी निवासी प्रदीप वायरलेस में सब इंस्पेक्टर हैं। उनकी बेटी ईशा यादव सर्वोदयनगर स्थित आरएलबी में 11वीं की छात्रा थी और मंगलवार को परीक्षा देने स्कूल गई थी। पिता के मुताबिक, “दोपहर करीब 12 बजे टीचर रंजना सिंह ने कॉल किया। कहा कि ईशा नकल करते पकड़ी गई है। ड्यूटी पर होने के कारण पत्नी प्रेमलता को फोन कर स्कूल जाने को कहा। स्कूल पहुँचने पर गार्ड ने कहा कि छुट्टी हो चुकी है। पर बेटी घर पर नहीं पहुंची थी। इस पर पत्नी घबरा गई और फोन कर जानकारी दी। प्रदीप ने बताया की इसके बाद वह खुद स्कूल पहुंचे। जहाँ उन्होंने ईशा को क्लास के बाहर बैठकर पेपर देते देखा। जिसके बाद वह बेटी को लेकर घर आ गये। जहाँ ईशा ने सोने की बात कह कमरे में चली गई। शाम 5.30 बजे जब प्रेमलता बेटी को जगाने कमरे में गईं तो ईशा का शव दुपट्टे से लटकता पाया।

दरोगा प्रदीप कुमार ने RLB सर्वोदयनगर में तैनात शिक्षिका रंजना सिंह और प्रिंसिपल पर बेटी को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। उनकी तहरीर पर पुलिस ने आत्महत्या के लिए उकसाने की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है। जबकि RLB स्कूल के डायरेक्टर निर्मल टंडन का कहना है कि स्कूल की प्रिंसिपल या शिक्षक पर छात्रा को उकसाने या दबाव डालने का आरोप गलत है। स्कूल में जो भी बात हुई है, वह CCTV कैमरे में हैं। पुलिस जांच में सारे रिकॉर्ड उपलब्ध कराए जाएंगे।