विदेश मंत्री एस जयशंकर: महामारी के दौर में भारतीय कंपनियों ने सिर्फ देश ही नहीं, बल्कि दुनिया की जरूरतों को पूरा करने में अहम भूमिका निभाई

752

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के दौर में भारतीय दवा कंपनियों ने बड़ी परिपक्वता के साथ मोर्चा संभाला। हमने न सिर्फ देश बल्कि दुनिया की जरूरतों को पूरा करने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने कहा, भारत लगातार बदलाव की प्रक्रिया से गुजर रहा है और स्वास्थ्य, आवास, बुनियादीढांचा, शिक्षा से लेकर सामाजिक लाभ  तक हर क्षेत्र में व्यापक सुधार हुआ है।

एम्ब्रॉसिटी फोरम पर बोलते हुए जयशंकर ने देश में चिकित्सा क्षेत्र में हुए विकास का जिक्र किया। उन्होंने कहा, एक वक्त था जब हमारे देश में निजी सुरक्षा उपकरण नहीं बनते थे। कोरोना चुनौती में हमारी कंपनियों ने मोर्चा संभाला। आज 109 निर्माता हैं जो पीपीई किट बनाते हैं। यही नहीं एन-95 मास्क बनाने वाली कंपनियां भी दो से बढ़कर 10 हो गईं। इसी तरह पहले देश में वेंटिलेटर बनाने वाली एक भी कंपनी नहीं थी लेकिन अभी 25 कंपनियां इसका उत्पादन कर रही हैं।

जयशंकर ने बताया कि हमारी कंपनियां न सिर्फ देश की जरूरतें पूरी कर रहीं थीं बल्कि दुनिया भर को मदद पहुंचा रहीं थीं। कोरोना काल में भारत ने 150 देशाें को चिकित्सीय मदद पहुंचाई।  

वैश्विक राजनीति पर कोरोना के प्रभावों का जिक्र करते हुए जयशंकर ने कहा, नए बहुलवाद के इस दौर में आर्थिक सुधारों के लिए भारत और यूरोपीय संघ की साझेदारी मजबूत होना बहुत जरूरी है। इसकी उम्मीद भी हमेशा की जाती है और भविष्य में कोरोना के बाद इसकी जरूरत और होगी।