रिलायंस रिटेल की डील पर एमेजॉन का आरोप कहा डील में नॉन-कंपीट कांट्रैक्ट के नियमों का उल्लंघन हुआ है

1253

अमेरिका की ई कॉमर्स कंपनी एमेजॉन ने रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और फ्यूचर समूह के बीच की डील पर सवाल खड़े किए हैं. न्‍यूज एजेंसी रॉयटर्स की खबर के मुताबिक एमेजॉन का आरोप है कि फ्यूचर समूह ने कॉन्‍ट्रैक्‍ट के नियमों को तोड़ा है. इस संबंध में एमेजॉन ने फ्यूचर समूह के प्रमोटर्स को लीगल नोटिस भी भेजा है.

दरअसल, बीते साल ऐमजॉन ने फ्यूचर कूपंस में 49 फीसदी हिस्सेदारी करीब 1500 करोड़ रुपये में खरीदी थी. इसके अलावा एमेजॉन की फ्यूचर रिटेल में 7.3 फीसदी हिस्सेदारी है. एमेजॉन ने लीगल नोटिस में आरोप लगाया है कि फ्यूचर ग्रुप ने डील की योग्यता को पूरा नहीं किया है. इस विवाद से अब यह आशंका बन रही है कि मामला कोर्ट में भी जा सकता है.

बता दें कि अगस्‍त महीने में रिलायंस इंडस्ट्रीज की सब्सिडियरी कंपनी रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड ने फ्यूचर समूह के साथ डील की जानकारी दी थी. इसके तहत कंपनी फ्यूचर समूह के रिटेल एंड होलसेल बिजनेस और लॉजिस्टिक्स एंड वेयरहाउसिंग बिजनेस का अधिग्रहण करने जा रही है. इससे रिलायंस फ्यूचर ग्रुप के बिग बाजार, ईजीडे और FBB के 1,800 से अधिक स्टोर्स तक पहुंच बनाएगी, जो देश के 420 शहरों में फैले हुए हैं. यह डील 24713 करोड़ में फाइनल हुई है.

रिलायंस रिटेल से जुड़ी ये खबर ऐसे समय में आई है जब कंपनी के जियो प्लेटफॉर्म्स और फेसबुक के बीच की भी एक डील सवालों के घेरे में है. एक रिपोर्ट के मुताबिक जियो प्लेटफॉर्म्स और फेसबुक के बीच हुई डील में डेटा शेयरिंग को लेकर भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI)  ने सवाल उठाये थे. सीसीआई का कहना था कि इन कंपनियों को एक-दूसरे से जो डेटा हासिल होगा उससे बाजार में प्रतिस्पर्धा विरोधी आचरण बढ़ेगा. हालांकि फेसबुक ने भरोसा दिया है कि रिलायंस से डेटा का ‘सीमित आदान-प्रदान’ ही होगा.

हाल ही में रिलायंस इंडस्ट्रीज के रिटेल कारोबार को एक और बड़ा निवेशक मिला है. अबु धाबी इनवेस्टमेंट अथॉरिटी रिलायंस रिटेल में 5,512.50 करोड़ रुपये का निवेश करेगी. इसके लिए उसे रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिडेट में 1.20 फीसदी हिस्सेदारी मिलेगी. इस निवेश के साथ रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिडेट आरआरवीएल अब तक कुल 37,710 करोड़ रुपये जुटा चुकी है. इससे पहले सिल्वर लेक, केकेआर, जनरल अटलांटिक, मुबाडला, जीआईसी और टीपीजी कंपनी में निवेश की घोषणा कर चुकी हैं. रिलायंस रिटेल पूरे देश में 12,000 स्टोर्स का संचालन करती है.