यूक्रेन और रूस के बीच जंग का 18वां दिन, यूक्रेन की राजधानी कीव तक पहुंची रूसी सेना

447
Russian army in capital city

रूस ने यूक्रेन के शहरों पर बमबारी तेज कर दी है और देश के दक्षिण में मारियुपोल पर शिकंजा और कसते हुए राजधानी कीव के बाहरी इलाकों में गोलाबारी तेज कर दी है। रूस के आक्रमण से मारियुपोल सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। निरंतर गोलाबारी ने 430,000 की आबादी वाले शहर में भोजन, पानी और दवा लाने तथा फंसे हुए नागरिकों को निकालने के प्रयासों को विफल कर दिया है।

महापौर के कार्यालय के अनुसार हमले में मारियुपोल में 1,500 से अधिक लोग मारे गए हैं और शवों को सामूहिक कब्रों में दफनाने के प्रयास भी गोलाबारी के कारण बाधित हो रहे हैं। संघर्ष विराम के लिए हुई वार्ता शनिवार को फिर विफल रही और जब अमेरिका ने यूक्रेन को हथियारों के लिए 20 करोड़ डॉलर की राशि फिर प्रदान करने की योजना की घोषणा की तो एक वरिष्ठ रूसी राजनयिक ने चेतावनी दी कि मास्को सैन्य उपकरणों की विदेशी खेप पर भी हमला कर सकता है।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने रूस पर उनके देश को तोड़ने और ”आतंक के एक नए चरण” को शुरू करने तथा मारियुपोल के पश्चिम में एक शहर के महापौर को हिरासत में लेने का आरोप लगाया है। यूक्रेन के एक अधिकारी ने कहा कि रूसी सैनिकों ने शनिवार को मारियुपोल पहुंचने की कोशिश कर रहे एक काफिले को लूट लिया और अन्य वाहनों को भी वहां जाने से रोक दिया।

यूक्रेन की सेना ने कहा कि रूसी सेना ने रणनीतिक बंदरगाह की घेराबंदी को मजबूत करते हुए मारियुपोल के पूर्वी बाहरी इलाके पर कब्जा कर लिया। यूक्रेन के राष्ट्रपति वालोदिमीर जेलेंस्की ने एक वीडियो संबोधन के दौरान कहा, ”वे मारियुपोल पर 24 घंटे बमबारी कर रहे हैं, मिसाइलें दाग रहे हैं। यह नफरत है। वे बच्चों को मार रहे हैं।” मारियुपोल में एसोसिएटेड प्रेस के एक पत्रकार ने नौ मंजिला अपार्टमेंट की इमारत पर टैंकों की गोलीबारी देखी।

जेलेंस्की ने ‘छद्म गणराज्य’ के प्रति आगाह किया
यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने शनिवार को कहा कि रूस उनके देश को तोड़ने के लिए यूक्रेन में नया ”छद्म गणराज्य” बनाने की कोशिश कर रहा है। जेलेंस्की ने शनिवार रात को देश के नाम अपने संबोधन में यह बात कही। उन्होंने खेरसन सहित यूक्रेन के क्षेत्रों से अपील की कि वे दोनेत्स्क और लुहांस्क में जो हुआ, उसे दोबारा होने नहीं दें। खेरसन पर रूसी बलों ने कब्जा कर लिया है। रूस समर्थक अलगाववादियों ने 2014 में पूर्वी क्षेत्रों दोनेत्स्क और लुहांस्क में यूक्रेनी सेना से लड़ाई शुरू की थी। यूक्रेनी राष्ट्रपति ने कहा,” खेरसन क्षेत्र पर कब्जा करने वाले छद्म गणराज्य का गठन करके हमें वही दुखद अनुभव कराने की कोशिश कर रहे हैं। वे स्थानीय नेताओं को ब्लैकमेल कर रहे हैं, दबाव बना रहे हैं…।” उन्होंने कहा, ”यूक्रेन इस परीक्षा में पास होगा। हमें उस युद्ध मशीन को तोड़ने के लिए वक्त और ताकत चाहिए जो हमारी भूमि में घुस आई हैं।