MP के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने, सूबे की जनता के लिए एकसाथ कई सौगातों की घोषणा की, सेवा सप्‍ताह के दौरान हर दिन होगी सौगातों की बारिश

532

मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सूबे की जनता के लिए एकसाथ कई सौगातों की घोषणा की है। उन्‍होंने कहा कि 17 तारीख को प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी जी का जन्मदिन है जिसे भाजपा सेवा सप्‍ताह के रूप में मना रही है। उन्‍होंने कहा कि लगभग 37 लाख गरीब लोगों के पास राशन के लिए पात्रता पर्ची नहीं थी। 16 तारीख को इन सभी लोगों को राशन देना शुरू किया जाएगा। 17 तारीख को आंगनबाड़ियों में बच्चों को पोषण आहार के साथ दूध बांटा जाएगा।

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि 18 तारीख को 12 बजे प्रदेश के 20 लाख किसानों के बैंक खातों में 4600 करोड़ रुपये फसल बीमा योजना के भेज दिए जाएंगे। 12 तारीख को 11 बजे PM मोदी जी 1.75 लाख गरीबों को मकान में गृह प्रवेश कराएंगे। इस कार्यक्रम को प्रधानमंत्री जी संबोधित भी करेंगे। इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि तीन साल में मध्य प्रदेश की धरती पर कोई गरीब बिना पक्के मकान के नहीं रहेगा। इसके साथ ही उन्‍होंने पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ पर भी निशाना साधा।

शिवराज ने लगाया कि सूबे की बेटियों की शादी के पैसे कमलनाथ खा गए। मैं 25 हजार देता था उन्‍होंने कहा कि 51 हजार दूंगा। शादियां बहुत हो गई सालभर हो गया कमलनाथ का पैसा नहीं आया। यह गद्दारी है। सीएम शिवराज ने बताया कि 23 तारीख को प्रधानमंत्री किसान योजना के अंतर्गत किसानों को KCC (किसान क्रेडिट कार्ड) के वितरण के साथ जीरो परसेंट ब्याज पर किसानों को लोन देने के लिए सहकारी बैंकों को 800 करोड़ रुपये की राशि प्रदान की जाएगी।

मुख्‍यमंत्री ने बताया कि 24 तारीख को उद्यान फसलों की फसल बीमा योजना के अंतर्गत 100 करोड़ की बीमा राशि का वितरण किया जाएगा। 25 सितंबर को माननीय दीनदयाल उपाध्याय के जन्मदिन के अवसर पर लोगों को बिजली बिलों में जो छूट दी गई है उसके संबंध में राशि वितरित की जाएगी। उन्‍होंने बताया कि हमने राजस्व अमले को निर्देश दिया है कि किसानों की फसलों की क्षति का आंकलन कर राहत राशि और फसल बीमा मिलाकर नुकसान की भरपाई कर दी जाए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि आज भारत सरकार का केंद्रीय दल मध्‍य प्रदेश के दौरे पर आया है। भारी बारिश और बाढ़ के कारण फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है, मकान ढहे हैं और कई गांव पूरी तरह से डूब गए थे। प्रारंभिक आंकलन के अनुसार लगभग 9500 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। सर्वे जारी है नुकसान आगे और बढ़ सकता है। हम केंद्र सरकार से अनुरोध कर रहे हैं कि कीट व्याधि से जो नुकसान हुआ है उसके लिए भी केंद्रीय टीम भेजे।