छत्तीसगढ़: एक सप्ताह के अंदर तीसरी घटना, एक हाथी की करंट से मौत

352

रायपुर, जेएनएन, जिले में वन्य जीवों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। छत्तीसगढ़ में जंगलों में स्वच्छंद विचरण कर रहे हाथियों की आकस्मिक मौत का सिलसिला चल रहा है। बीते सात दिनों के अंदर यहां तीन जगहों पर हाथियों की करंट की चपेट में आने से असमय मौत हुई है। ताजा मामला गरियाबंद जिले के धवलपुर गांव का है। यहां एक युवा नर हाथी की करंट की चपेट में आने से मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि जिस हाथी की मौत हुई है वह अपने दल के साथ उड़ीसा से इस इलाके में आया था। हाथियों के इसी रास्ते में 111 केवी की विद्युत सप्लाई लाइनटूट कर नीचे गिर गई थी। इसी के संपर्क में आने से हाथी की मौत हो गई है। वन विभाग के अधिकारियों ने घटना की पुष्टि की है।

इससे पहले धर्मजयगढ़ में भी एक हांथी की करंट से मौत हो गई थी। ग्रामीणों ने वनपरिक्षेत्र के मेढरमार गांव में एक हाथी का शव संदिग्ध परिस्थितियों में देखा था। मेढरमार गांव के धर्म सिंह राठिया के खेत में सिंचाई के बोर के उद्देश्य से हाईवोल्टेज करंट की आपूर्ति की गई है। वह सुबह धान की फसल देखने पहुंचे तो हाथी को अचेत पाया। आशंका है कि हाथी बोर के तारों में उलझ गया और करंट के कारण मौत हुई। शरीर पर करंट प्रवाहित तार लिपटा पाया गया है। सीसीएफ (चीफ कंजर्वटेर ऑफ फॉरेस्ट) अनिल सोनी के साथ रायगढ़ और बिलासपुर से वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे और स्थानीय लोगों की मदद से हाथी का संस्कार किया।