उत्तरराखंड: हेड मास्टर ने फर्जी डिग्री से 24 साल तक की सरकारी नौकरी

255

शिक्षा विभाग में भर्ती हुए कई शिक्षकों के शैक्षिक प्रमाणपत्रों की एसआईटी जांच में कई बड़े खेल उजागर हुए हैं। बीटीसी की डिग्री बदायूं कॉलेज में जमा होने के बावजूद एक शिक्षक ने अपने हाथों से फर्जी डिग्री बनाकर नौकरी पा ली.

बीटीसी की डिग्री कॉलेज में ही है। सत्यापन में ऋषिपाल की ओर से जमा कराई डिग्री फर्जी पाई गई है। उन्होंने बताया कि एसआईटी अब डिग्री के असली मालिक का पता लगाने में जुटी है। हालांकि ऋषिपाल अभी भी अपनी डिग्री को सही बता रहा है।

जिले में तैनात शिक्षक मुरादाबाद निवासी ऋषिपाल दूसरे ऋषिपाल के नाम पर नौकरी कर रहा था। शिकायत के बाद एसआईटी की टीम शिक्षक ऋषिपाल की बीटीसी की डिग्री के सत्यापन को बदायूं तक गई। एसआईटी प्रभारी मणिकांत मिश्रा ने बताया कि जांच के दौरान पता चला कि बीटीसी करने वाला ऋषिपाल आज तक अपनी डिग्री लेने नहीं आया है।