अध्ययन सुमन का बयान कंगना के साथ मेरा नाम ना जोड़ा जाए, हां सुशांत के लिए इंसाफ की मांग में मैं उनके साथ हूं

702

बॉलीवुड सितारों पर ड्रग्स लेने का इल्ज़ाम लगाने वाली कंगना रनौत तक भी ड्रग्स विवाद की आंच आ पहुंची है। ‘सुशांत केस’ में ड्रग्स एंगेल पर चुप्पी साधे बैठी रहनी वाली महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई पुलिस को कंगना के खिलाफ ही ड्रग मामले में जांच करने के आदेश दे दिए हैं। ये सारा मामला शुरू हुआ था कंगना रनौत के एक्स बॉयफ्रेंड और बॉलीवुड अभिनेता शेखर सुमन के बेटे अध्ययन सुमन के एक पुराने इंटरव्यू के वायरल होने के बाद से। जिसमें अध्ययन यह कहते दिख रहे हैं, कि कंगना ने उनपर ड्रग्स लेने के लिये दबाव बनाया था। उस इंटरव्यू में अध्ययन ने कंगना के खिलाफ कई सनसनीखेज़ खुलासे किये थे।

लेकिन अब अध्ययन ने हर विवाद से किनारा करने के संकेत दिये हैं। अध्ययन ने सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो जारी कर कहा है कि वह ‘ड्रग्स विवाद’ से दूर रहना चाहते हैं, उन्हें इस सबमें ना घसीटा जाए।

अध्ययन कहते हैं कि ‘मुझे जो कहना था वो मैं 2016 में कह चुका हूं, जिसके बाद मुझे और मेरे परिवार को काफी आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ा था। अब मैं उस बात को भूला चुका हूं, और अपनी जिंदगी में आगे बढ़ चुका हूं।”

अध्ययन हाथ जोड़ अपील करते हैं कि एक बार फिर से उन्हें उनके काले अतीत में ना घसीटा जाए। वो बहुत मुश्किलों से आगे बढ़े हैं। इसके आगे अध्ययन यह भी कहते हैं कि कंगना रनौत से उनका कोई रिश्ता नहीं है, ना ही आगे कभी होगा। अपने वीडियो में अध्ययन ने ये भी कहा कि “हम दोनों की लड़ाई एक ही है, जो कि है सुशांत सिंह राजपूत को न्याय दिलवाना। तो मुझे अब मेरे डार्क पास्ट में लेकर नहीं जाइए।”

आपको बता दें कि, अभिनेत्री कंगना रनौत ट्विटर पर एक ट्वीट किया था जिसमें उन्होने इल्ज़ाम लगाया था कि बॉलीवुड के 90 प्रतिशत ए लिस्टर स्टार्स कोकिन एडिक्ट होते हैं। तो वहीं कंगना के इस ट्वीट के बाद अध्ययन सुमन का 2016 में दिये इंटरव्यू का छोटा सा हिस्सा वायरल हो रहा था। जिसमें अध्ययन साफ कह रहे हैं कि कंगना ने उनपर कोकिन लेने का दबाव बनाया था। हांलाकि वह यह भी कहते हैं कि मैने कंगना को कभी ड्रग्स लेते नहीं देखा लेकिन उन्होने कई बार उनके ड्रग्स लेने के बारे में सुना है।

तो वहीं, जब महाराष्ट्र सरकार ने कंगना के ड्रग मामले की जांच करने के आदेश दिये थे, तब कगंना ने भी चुनौती दी थी कि उन पर लगे आरोप सिद्ध करके दिखाये जाएं। गलत साबित होने पर वह मुंबई छोड़ देंगी।